MP: सरकारी पाठशाला में बच्चों को बर्तन भी नहीं नसीब, पत्तों पर खाते हैं खाना

छात्र-छात्राओं का मध्याह्न भोजन के खाने के लिये अपने घर से बर्तन लाना पड़ते हैं या फिर पत्तों पर खाना पडता है.

भोपाल: मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ जिले में बच्चों को पत्तों पर मध्याह्न भोजन परोसने का मामला सामना आया है. जिला मुख्यालय के पास ग्रामीण अंचल के प्राथमिक शाला मनगुवा में आज भी बच्चों को स्कूल से मिलने वाले मध्याह्न भोजन के लिये अपने घर से बर्तन लेकर आना होता है या फिर पत्तों पर भोजन खाने को मजबूर होना पड़ता है.

पिछले 7 साल से स्कूल में बर्तन नहीं

छात्र-छात्राओं को स्कूल आने के लिए प्रेरित करने के उद्देश्य से छात्रों को दोपहर के भोजन के लिये मध्याह्न भोजन का वितरण सुनिश्चत किया गया है लेकिन खरगापुर विधानसभा क्षेत्र के प्राथमिक पाठशाला मनगुवा गांव में जब से स्कूल खुले हैं तब से नहीं बल्कि पिछले 7 साल से स्कूल में बर्तन नहीं हैं.

घर से बर्तन लाना पड़ते हैं

छात्र-छात्राओं का मध्याह्न भोजन के खाने के लिये अपने घर से बर्तन लाना पड़ते हैं या फिर पत्तों पर खाना पडता है. आज तक एक भी दिन बच्चों को थालियों में मध्याह्न भोजन नही परोसा गया. विरोध करने पर बच्चों को डांट-डपट दिया जाता है.

भरपेट भोजन नहीं दिया जाता

स्कूल प्रबंधन की लापरवाही के चलते बच्चे पत्तों पर परोसा गया. ज्यादातर बच्चों ने बताया कि उन्हें कभी भी स्कूल में भरपेट भोजन नहीं दिया जाता है और रहा सवाल खीर-पूडी का तो वह केवल 26 जनवरी और 15 अगस्त को मिलती है या फिर कोई अधिकारी स्कूल में आये तो उस दिन खीर पूडी खाने को मिलती है.

शिक्षक का गांव में खौफ

स्कूल की इस चौपट व्यवस्था को लेकर बच्चों के अभिभावकों का कहना है कि शिक्षक का गांव में इतना खौफ है कि इसके इस कृत्य का विरोध करने या शिकायत करने पर शिक्षक अपने राजनैतिक सरंक्षण के चलते उसके खिलाफ पुलिस में झूठी शिकायत कर मामला दर्ज करवा देता है.

बच्चों का रिकार्ड खराब कर उसकी टीसी नहीं देता जिसके चलते कई बच्चों को अपनी पढ़ाई तक छोडना पड़ी है. अभी तक शिक्षक ऐसे कई लोगों के खिलाफ झूठे मुकदमें दर्ज करवा चुका है.

‘बर्तन चोरी हो गए’

शासकीय प्राथमिक शाला में पदस्थ हेडमास्टर का कहना है कि वर्ष 2012 में ताला तोडकर अज्ञात चोर स्कूल के अंदर रखे अन्य सामान के साथ बर्तन भी चोरी कर ले गये थे. जिसकी पुलिस में एफआईआर दर्ज है.

रहा सवाल पत्तों पर खाना परोसने का तो गांव के कुछ दबंग लोगों द्वारा बच्चों को प्रसाद के रूप में जबरन पत्तों पर परोसा गया और मना करने पर मुझे जान से मारने की धमकी दी गई और इसकी फोटो खींच ली गई.

कार्यवाही की जायेगी

वहीं शिक्षा विभाग के डीपीसी का का कहना है कि प्राथमिक शाला मनगुवा स्कूल में बर्तन उपलब्ध हैं इसके बावजूद भी अगर पत्तों पर भोजन दिया जा रहा है तो इस पूरे मामले की जांच कर आवश्यक कार्यवाही की जायेगी.

ये भी पढ़ें- MP: फेसबुक पर कलेक्टर के नाम से बनाई फेक ID, दोस्तों से ऐंठे रुपये

ये भी पढ़ें- MP: विधायक का टिकट दिलाने के नाम पर कांग्रेस नेता ने ऐंठे लाखों रुपये