आजकल वेश्याओं की तरह कपड़े बदलते हैं सरकारी अधिकारी: गोपाल भार्गव

उन्होने कहा, 'उन्हें कुछ कहा जाता है तो साष्टांग लेट जाते हैं, बगैर रीढ़ के, बगैर मूंछ के सिर्फ पूंछ है. इसके अलावा कुछ नहीं. मैं चेतावनी देना चाहता हूं कि अधिकारी चापलूसी करना छोड़ दें, जिस दिन निजाम बदल जाएगा, वक्त बदलेगा, बाद में जो दुर्गति होगी कल्पना कर लें. नौकरी करने लायक नहीं रह जाएंगे.'

मध्य प्रदेश विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव का राज्य सरकार और सरकारी अधिकारियों के खिलाफ दिया विवादित बयान सामने आया है. रतलाम में गोपाल भार्गव ने अधिकारियों पर टिप्पणी करते हुए कहा कि आजकल अधिकारी वेश्याओं की तरह कपड़े बदलते हैं. वहीं सरकार पर हमलावर होते हुए उन्होंने सावरकर वाली कॉपी बांटने के मामले में कहा कि सरकार चाहती है कि आप ब्लू फिल्म बांटो.

दरअसल सरकारी स्कूल के प्रिंसिपल को सस्पेंड करने के मामले में स्थानीय लोगों और एनजीओ के प्रतिनिधियों ने गोपाल भार्गव से शिकायत की तो गोपाल भार्गव ने उन्हें आश्वासन दिया कि वह यह मामला विधानसभा में उठाएंगे. उन्होंने कहा कि प्रिंसिपल साहब को सस्पेंड करके सरकार ने जो पाप किया है उन्हें इसकी माफी मांगनी होगी.

रतलाम पहुंचे नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव से एनजीओ के प्रतिनिधि मुलाकात करने पहुंचे थे. इस दौरान स्थानीय बीजेपी नेता और सांसद जीएस डामोर उनके साथ मौजूद थे. इस दौरान भार्गव ने कहा कि कोर्ट के माध्यम से प्रिंसिपल साहब का सस्पेंशन 2 दिन में वापस होगा आप चिंता मत करिए. दरअसल कुछ दिन पहले रतलाम में सरकारी स्कूल के प्रिंसिपल को इस वजह से सस्पेंड कर दिया गया था, क्योंकि उनकी मौजूदगी में सावरकर की फोटो वाली अभ्यास पुस्तिका स्कूल के बच्चों को बांटी गई थी.

इसी दौरान नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव सरकारी अफसरों पर भी जमकर बरसे. उन्होने कहा, ‘उन्हें कुछ कहा जाता है तो साष्टांग लेट जाते हैं, बगैर रीढ़ के, बगैर मूंछ के सिर्फ पूंछ है. इसके अलावा कुछ नहीं. मैं चेतावनी देना चाहता हूं कि अधिकारी चापलूसी करना छोड़ दें, जिस दिन निजाम बदल जाएगा, वक्त बदलेगा, बाद में जो दुर्गति होगी कल्पना कर लें. नौकरी करने लायक नहीं रह जाएंगे.’

ये भी पढ़ें:  CAA समर्थन रैली के दौरान कलेक्टर ने BJP नेता को मारा थप्पड़, लाठीचार्ज में तीन घायल