कोर्ट में पेश होने नहीं गईं प्रज्ञा ठाकुर, भोपाल में महाराणा प्रताप की प्रतिमा पर माला चढ़ाने पहुंची

सोमवार को प्रज्ञा ठाकुर ने 3 जून से 7 जून तक कोर्ट में पेश न होने के लिए याचिका दायर कर छूट मांगी थी, पर उनकी याचिका को कोर्ट ने खारिज कर दिया था.

भोपाल: मध्य प्रदेश के भोपाल से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सांसद और मालेगांव ब्लास्ट 2008 की आरोपी प्रज्ञा ठाकुर को गुरुवार को मुंबई में ट्रायल कोर्ट के सामने पेश होना था, लेकिन ब्लड प्रेशर और अन्य बीमारी के कारण अस्पताल में भर्ती होने का हवाला देते हुए उन्होंने कोर्ट में पेश होने के लिए छूट मांगी, पर उसी दिन दोपहर को वे एक इवेंट में जा पहुंची.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, गुरुवार को प्रज्ञा ठाकुर महाराणा प्रताप की जयंती के मौके पर उनकी प्रतिमा पर माला चढ़ाने के लिए पहुंच गईं. गुरुवार को प्रज्ञा ठाकुर को मुंबई ट्रायल कोर्ट के सामने पेश होना था. पिछले महीने कोर्ट ने आदेश दिया था कि ब्लास्ट के सभी आरोपियों को हफ्त में एक बार जरूर पेश होना है.

सोमवार को प्रज्ञा ठाकुर ने 3 जून से 7 जून तक कोर्ट में पेश न होने के लिए याचिका दायर कर छूट मांगी थी, पर उनकी याचिका को कोर्ट ने खारिज कर दिया था.

इसके बाद गुरुवार के दिन के लिए प्रज्ञा ठाकुर को कोर्ट ने यह कहते हुए छूट दे दी कि उन्हें शुक्रवार को कोर्ट के सामने पेश होना होगा. इसके साथ यह भी सामने आया है कि प्रज्ञा ठाकुर ने अस्पताल में भर्ती होने वाली अपनी याचिका में किसी भी तरह के मेडिकल डॉक्यूमेंट सब्मिट नहीं किए थे.

रिपोर्ट के मुताबिक, प्रज्ञा ठाकुर स्थानीय बीजेपी नेताओं के साथ ईद के मौके पर भोपाल के काज़ी सयैद मुस्ताक अली नादवी से मिलने पहुंची थी. जहां पर उन्होंने काज़ी को मिठाई और ड्राई फ्रूट भेंट में दिए. इसके बाद बुधवार की रात प्रज्ञा ठाकुर की तबियत बिगड़ी और उन्हें अस्पताल में भर्ती करना पड़ा और सुबह उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया.