Honey Trap, हनी ट्रैप: MP के कई मंत्रियों-नौकरशाहों का हार्ड डिस्क में था काला-चिट्ठा, फॉरेंसिक जांच में उठा पर्दा
Honey Trap, हनी ट्रैप: MP के कई मंत्रियों-नौकरशाहों का हार्ड डिस्क में था काला-चिट्ठा, फॉरेंसिक जांच में उठा पर्दा

हनी ट्रैप: MP के कई मंत्रियों-नौकरशाहों का हार्ड डिस्क में था काला-चिट्ठा, फॉरेंसिक जांच में उठा पर्दा

हनी ट्रैप की जांच जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है, वैसे-वैसे नए खुलासे हो रहे हैं.
Honey Trap, हनी ट्रैप: MP के कई मंत्रियों-नौकरशाहों का हार्ड डिस्क में था काला-चिट्ठा, फॉरेंसिक जांच में उठा पर्दा

मध्य प्रदेश के हाईप्रोफाइल हनी ट्रैप का राज उन पांच हार्ड डिस्क में छिपा है, जो आरोपी महिलाओं के पास से बरामद हुई हैं. इन हार्ड डिस्क में पूर्व सरकार के साथ मौजूदा सरकार के कई नेताओं के नाम सामने आ रहे हैं. कई ब्यूरोक्रेट्स भी ऐसे हैं, जो हनी ट्रैप के शिकार हुए हैं.

हनी ट्रेप के मामले में इंदौर पुलिस ने आरती दयाल और मोनिका यादव हिरासत में लिया था. भोपाल पुलिस ने तीन महिलाओं श्वेता स्वप्निल जैन, श्वेता जैन और बरखा सोनी के साथ एक पुरुष ओमप्रकाश को गिरफ्तार किया था.

पुलिस ने 5 हार्ड डिस्क किए जब्त
सूत्रों के मुताबिक, इन आरोपियों के पास से पुलिस ने इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के साथ पांच हार्ड डिस्क को जप्त किए थे. एटीएस, इंटेलिजेंस और पुलिस मिलकर इन हार्ड डिस्क की जांच कर रही है. इसकी फॉरेंसिंक जांच कराई जा रही है. लेकिन इससे पहले जब हार्ड डिस्क के डाटा को खंगाला गया, तो कई नौकरशाह और राजनेता बेनकाब हो गए.

इंदौर डीआईजी रुचि वर्धन मिश्रा का कहना है कि अभी सभी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस की फॉरेंसिक जांच कराई जाएगी. उन्होंने कहा कि जो भी तथ्य सामने आएंगे, उस पर कार्रवाई की जाएगी. हनी ट्रैप के मामलें में कोई भी आधिकारिक बाइट नहीं दे रहा. सारी जानकारी सोर्सेज के हवाले से है.

हार्ड डिस्क ने उगले राज!
हार्ड डिस्क ने एक पूर्व राज्यपाल, पूर्व मुख्यमंत्री, 2 मौजूदा मंत्री, तीन पूर्व मंत्री, एक पूर्व सांसद, एक राजनैतिक पार्टी संगठन के बड़े नेता, 5 आईएएस अधिकारी, डीजी रैंक के एक अधिकारी, एडीजी रैंक के 2 अधिकारी, एडिशनल एसपी रैंक के 2 अधिकारी, 3 सीएसपी रैंक के अधिकारी, 10 बड़े बिल्डर और कारोबारी, एक मौजूदा मंत्री के ओएसडी, एक विधायक, सागर के एक नेता, इंदौर के एक नेता के साथ मौजूदा सरकार और पूर्व सरकार के कई नेताओं नाम सामने आए हैं जिनकी जांच चल रही है.

आरोपियों के मोबाइल फोन में करीब एक हजार वीडियो क्लिप होने की जानकारी मिली है. मोबाइल फोन में मिले 150 रसूखदारों के नंबरों की भी जांच चल रही है.

करीब 1,000 वीडियो क्लिप बरामद
हनी ट्रैप मामले के तीसरे दिन भी कई खुलासे हुए. सूत्रों के अनुसार, आरोपी महिलाओं के पास मिले मोबाइल फोन में करीब एक हजार वीडियो क्लिप मिली हैं. ये वीडियो क्लिप कई बड़े राजनेताओं और नौकरशाहों से जुड़ी है.

सूत्र बताते हैं कि भोपाल के सागर लैंडमार्क में एक आईएएस अधिकारी ने आरोपी आरती दयाल को फ्लैट दिलाया है. आपको बता दें कि सागर के एक नेता का वीडियो भी भोपाल में रहने वाली आरोपी महिला ने बनाया था.

आरोपी महिलाओं के पास लग्जरी कार
आरोपी महिलाओं के पास लैंड रोवर, मर्सिडीज, एक ऑडी है. एक लग्जरी कार एक बिल्डर ने महिला को गिफ्ट की थी. साथ ही मिनाल रेजीडेंसी में एक प्लॉट की रजिस्ट्री भी कराई है. भोपाल नगर निगम ने भी आठ करोड़ का काम आरोपी महिला के पति को दिया था.

गृहमंत्री बाला बच्चन ने हनी ट्रैप के सियासी कनेक्शन पर कहा कि पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है. दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. गिरोह में बीजेपी हो या फिर कांग्रेस के लोग उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी. किसी के दबाव में जांच प्रभावित नहीं होगी.

बताया जा रहा है कि हनी ट्रैप की जांच जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है, वैसे-वैसे नए खुलासे हो रहे हैं. हार्ड डिस्क की फॉरेंसिक जांच से पहले ही कई बड़े खुलासे हुए हैं. आगे भी कई बड़े खुलासे होने की संभावना है.

ये भी पढ़ें-

महाराष्‍ट्र और हरियाणा में 21 अक्‍टूबर को डाले जाएंगे वोट, 24 को आएंगे नतीजे

हरियाणा: पांच साल पहले क्‍या थी राजनीतिक पार्टियों की हैसियत, 10 प्‍वॉइंट्स में

महाराष्‍ट्र: 2014 में किसके खाते में थीं कितनी सीटें और क्‍या थे इक्‍वेशन, 10 प्‍वॉइंट्स में

Honey Trap, हनी ट्रैप: MP के कई मंत्रियों-नौकरशाहों का हार्ड डिस्क में था काला-चिट्ठा, फॉरेंसिक जांच में उठा पर्दा
Honey Trap, हनी ट्रैप: MP के कई मंत्रियों-नौकरशाहों का हार्ड डिस्क में था काला-चिट्ठा, फॉरेंसिक जांच में उठा पर्दा

Related Posts

Honey Trap, हनी ट्रैप: MP के कई मंत्रियों-नौकरशाहों का हार्ड डिस्क में था काला-चिट्ठा, फॉरेंसिक जांच में उठा पर्दा
Honey Trap, हनी ट्रैप: MP के कई मंत्रियों-नौकरशाहों का हार्ड डिस्क में था काला-चिट्ठा, फॉरेंसिक जांच में उठा पर्दा