शिवाजी की मूर्ति हटाने को लेकर ट्विटर पर भिड़े शिवराज और नकुलनाथ, एक-दूसरे को दी चुनौती

शिवराज ने लिखा, "छत्रपति शिवाजी महाराज के अपमान के खिलाफ लड़ाई लड़ने मैं आ रहा हूं! राजनीतिक रोटियां सेंकने का न तो मेरा स्वभाव है और न ही मेरे संस्कार हैं."
Shivraj Singh Chouhan, शिवाजी की मूर्ति हटाने को लेकर ट्विटर पर भिड़े शिवराज और नकुलनाथ, एक-दूसरे को दी चुनौती

मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में छत्रपति शिवाजी महाराज की मूर्ति हटाए जाने को लेकर सियासत तेज हो गई है. कांग्रेस-बीजेपी के नेताओं के बीच आरोप-प्रत्यारोप का नया दौर शुरू हो गया है. इसी सिलसिले में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और कांग्रेस सांसद नकुलनाथ के बीच शुक्रवार को ट्विटर वार देखने को मिली.

दरअसल, शिवराज सिंह चौहान शनिवार को छिंदवाड़ा के दौरे पा जा रहे हैं. इस पर नकुलनाथ ने शिवराज को आड़े हाथों लेते हुए ट्वीट करके निशाना साधा.

नकुलनाथ ने लिखा, “शिवराज जी, आपका विकास मॉडल छिंदवाड़ा में स्वागत है. लेकिन आप जिस तरह से छत्रपति शिवाजी महाराज जी के नाम पर राजनैतिक रोटियां सेंकने आ रहे हैं, वह गलत है. छत्रपति शिवाजी महाराज हमारी आस्था के प्रतीक हैं. आपका उनके नाम को राजनीति के लिए प्रयोग करना उचित नहीं है.”


उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, “मुख्यमंत्री कमलनाथ के निर्देशों पर सौंसर के मोहगांव तिराहे पर छत्रपति शिवाजी महाराज जी की आदम कद प्रतिमा स्थापित, भव्य समारोह आयोजित कर की जाएगी. जिसका सम्पूर्ण खर्च मेरे द्वारा वहन किया जाएगा. जय भवानी जय शिवाजी.”

कांग्रेस सांसद ने एक और ट्वीट में कहा, “आप छिंदवाड़ा आ ही रहे हैं तो, आप मेरे गृह ग्राम शिकारपुर में कल दोपहर भोजन के लिए भी आमंत्रित हैं. और भोजन के बाद मैं चाहूंगा कि आप एक दफा सम्पूर्ण छिंदवाड़ा के विकास को देखकर अवश्य लौटें.”


शिवराज ने नकुलनाथ के इन आरोपों का ट्वीट करके जवाब दिया. उन्होंने लिखा, “सांसद भतीजे, मैं कल सौंसर आ रहा हूं. ट्वीट कर भोजन के लिए आमंत्रित करना सौंसर, छिंदवाड़ा, मध्यप्रदेश और भारत की परंपरा नहीं है. हिन्दवी स्वराज्य के संस्थापक, राष्ट्रीय गौरव के प्रतीक, हमारे आदर्श छत्रपति शिवाजी महाराज का अपमान यह देश किसी भी कीमत पर सहन नहीं कर सकता!”

बीजेपी नेता ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, “छत्रपति शिवाजी महाराज के अपमान के खिलाफ लड़ाई लड़ने मैं आ रहा हूं! राजनीतिक रोटियां सेंकने का न तो मेरा स्वभाव है और न ही मेरे संस्कार हैं. पूरे प्रदेश को विनाश के गर्त में पहुंचाने वालों के मुंह से विकास के मॉडल की बात अच्छी नहीं लगती! लूट का नया मॉडल इस सरकार ने दिया है!”


उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा कि ‘छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा गिराकर अपमान करने वाले स्वयं के पैसों से उसे लगवाने की बात कर रहे हैं! प्रतिमा गिरवाई ही क्यों? सौंसर व छिंदवाड़ा की जनता में इतना सामर्थ्य है कि वे अपने पैसों से छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा लगवा सकें! प्रतिमा तो जनता के पैसों से ही लगेगी!’

ये भी पढ़ें-

राष्ट्रपति कोविंद ने अरविंद केजरीवाल को नियुक्त किया दिल्ली का CM, इन 6 मंत्रियों के साथ 16 को लेंगे शपथ

4 अरब के DDA लैंड पुलिंग स्कैम का खुलासा, सस्ती जमीन-फ्लैट दिलाने के नाम पर तीन लोगों ने ठगे करोड़े रुपये

Related Posts