MP: धार मॉब लिंचिंग मामले में SIT गठित, तीन आरोपी गिरफ्तार

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री ने बताया, "इस मामले की जांच के लिए एसआईटी गठित कर दी गई है. तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है और 30 से 40 लोगों को चिह्नित किया गया है."
Special Investigation Team, MP: धार मॉब लिंचिंग मामले में SIT गठित, तीन आरोपी गिरफ्तार

मध्य प्रदेश के धार जिले के मनावर थाना क्षेत्र में हुई मॉब लिंचिंग की जांच के लिए स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) का गठन कर दिया गया है. वहीं तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है.

साथ ही अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है. धार जिले के मनावर थाने के बोरलाई में भीड़ ने छह लोगों को बच्चा चोर की अफवाह के चलते बुरी तरह पीटा था, वाहनों को आग लगा दी गई थी. इस घटना में एक शख्स की मौत हो गई थी, वहीं पांच घायल हुए हैं. घायलों का इंदौर के एमवाय अस्पताल में इलाज जारी है.

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री तुलसीराम सिलावट ने गुरुवार को इंदौर स्थित अस्पताल में पहुंचकर घायलों का हाल जाना.

उन्होनें बताया, “इस मामले की जांच के लिए एसआईटी गठित कर दी गई है. तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है और 30 से 40 लोगों को चिह्नित किया गया है.”

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, “उज्जैन के खेत मालिकों से काम करने के लिए धार जिले के तिरला थाने के खिड़किया गांव के कुछ लोगों ने एडवांस लिया और वे काम छोड़कर अपने गांव चले गए. खेत मालिक जब बुधवार को अपने रुपये वसूलने गए ,तभी मजदूरों ने उनसे मारपीट की कोशिश की.”

इसके बाद खेत मालिक अपने वाहनों से गांव से भागे. मजदूरों पीछा किया और बोरलाई पहुंचने पर खेत मालिकों को बच्चा चोर बता दिया गया. इस पर भीड़ उग्र हो गई और किसानों पर लाठी-डंडों और पत्थरों से हमला बोल दिया. इसमें एक की मौत हुई और पांच घायल हुए हैं.

मनावर थाने के प्रभारी युवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को बताया, “तीन आरोपी पकड़े जा चुके हैं, और अन्य की तलाश की जा रही है. वीडिया फुटेज से आरोपियों को खोजा जा रहा है. वहीं सर्विलांस से मोबाइल के जरिए यह पता किया जा रहा है कि कितने बाहरी लोग यहां थे.”

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस घटना को दुखद बताते हुए कहा, “धार के मनावर में आपसी विवाद में घटित हुई घटना बेहद दु:खद. ऐसी घटनाएं मानवता को शर्मसार करने वाली होकर बर्दाश्त नहीं की जा सकती हैं. पूरे मामले की प्रशासन को जांच के निर्देश दिए गए हैं, जांच कर दोषियों पर सख्त कदम उठाने के निर्देश दिए गए हैं.”

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने सरकार पर सवाल उठाते हुए कहा, “धार मनावर में बच्चा चोरी के शक में छह लोगों को बुरी तरह पीटा गया, एक की मौत हो गई. यह घटना बेहद शर्मनाक है. मध्यप्रदेश में कानून नाम की कोई चीज है भी या नहीं. ऐसी घटनाएं कानून व्यवस्था पर प्रश्न चिह्न् खड़ा करती है. बिगड़ती कानून व्यवस्था के लिए कमलनाथ सरकार जिम्मेदार है.”

उन्होंने आगे कहा कि ‘धार मनावर की घटनाएं समाज को शर्मसार करने वाली हैं, मध्यप्रदेश किस ओर बढ़ रहा है? कांग्रेस के राज में छह लोगों को भीड़ ने पीटा और एक व्यक्ति की बेरहमी से की पीट-पीट कर हत्या कर दी. कमलनाथ जी क्या यह एक साल में बना नया मध्यप्रदेश है.’

ये भी पढ़ें-

गोरापन-गंजापन-लंबाई बढ़ाने वाले झूठे विज्ञापन देने पर जाना पड़ेगा जेल, 50 लाख का जुर्माना भी

CAA पर लोकसभा में बोले पीएम मोदी – कांग्रेस का असली चेहरा सामने आ गया

पीएम मोदी के ‘ट्यूबलाइट अटैक’ पर राहुल का जवाब, इकोनॉमी और रोजगार पर दो मिनट बोल देते

Related Posts