लकड़ी बीनने गई युवती का बाघ ने किया शिकार, सोया रहा वन विभाग

ग्रामीणों के मुताबिक घटना के 3 घंटे बीत जाने के बाद कोई अधिकारी वहां नहीं पहुंचा, जिसको लेकर ग्रामीणों में विभाग के प्रति आक्रोश है.
tiger attacked young girl, लकड़ी बीनने गई युवती का बाघ ने किया शिकार, सोया रहा वन विभाग

कटनी जिला मुख्यालय से 75 किलोमीटर दूर बरही के विजयराघवगढ़ वन परिक्षेत्र में बाघ का मूवमेंट काफी दिनों से हो रहा है. बाघ कभी सड़क पर तो कभी खेतों पर तो कहीं रहवासी इलाके में घूमते हुए देखा जा रहा था. लोगों ने 4 से 5 दिन पहले बाघ का वीडियो भी वायरल किया था.

बाघ की जानकारी वन विभाग को दी गई थी पर विभाग ने कोई कदम नहीं उठाया. वहीं लकड़ी बीनने गई लड़की के ऊपर बाघ ने हमला कर दिया और लड़की की मौके पर ही मौत हो गई .

विजयराघवगढ़ के वन परिक्षेत्र के ग्राम घुघरी की एक युवती अपनी सहेली के साथ लकड़ी बीनने गांव से कुछ दूर गई हुई थी तभी घाघ लगाए बाघ ने दोनों लड़कियों पर हमला कर दिया जिसमें रोशनी नाम की लड़की की मौके पर ही मौत हो गई. दूसरी लड़की उस खतरनाक मंजर को देख कर सदमे में आ गई है और वो अभी बोलने की हालत में नहीं है.

बाघ कभी भी किसी को भी दिख जाता था. बाघ के लगातार वीडियो वायरल होना भी एक संदेश था, जिसे वन विभाग ने गंभीरता से नहीं लिया. इस लापरवाही का खामियाजा रोशनी को जान देकर भुगतना पड़ा है.

ग्रामीणों की मानें तो उन्होंने वन विभाग को बाघ की जानकारी दे दी थी कि उनके गांव के आस पास बाघ है और उसकी दहाड़ अक्सर आती रहती है, जिससे सभी ग्रामीण दहशत में हैं. बाघ की दहशत इतनी ज्यादा है कि लोग दिन में ही अपना काम कर लेते हैं और तो और वो बच्चों को स्कूल भेजने में भी डरते हैं. ग्रामीणों के मुताबिक घटना के 3 घंटे बीत जाने के बाद अभी तक कोई अधिकारी वहां नहीं पहुंचा है, जिसको लेकर ग्रामीणों में विभाग के प्रति आक्रोश है.

वन विभाग के एसडीओ ओपी सिंह बघेल ने बताया कि उनको जैसे ही जानकारी मिली वो मौके पर पहुंचे और रोशनी के शव को देखकर कहा कि, किसी भयानक वन प्राणी ने ही उस पर हमला किया है और उसकी मृत्यु हुई है.

वन विभाग के मुताबिक ये पूरा जांच का विषय है कि बाघ ने हमला किया है या तेंदुए ने या फिर किसी और ही वन प्राणी ने…वहीं एसडीओ ने इस बात से भी इंकार नहीं किया है कि बाघ के मूवमेंट की जानकारी उनको थी. उन्होंने दूसरे गांवों में जाकर बाघ से बचने के उपाय भी बताए थे.

मृतक रोशनी के परिवार वालों को वन विभाग की ओर से 4 लाख रुपये की आर्थिक सहायता की जाएगी.

Related Posts