एंबुलेंस में इलाज के लिए तड़प-तड़प कर मर गई महिला, नहीं खुला ICU का दरवाजा

करीब आधे घंटे तक महिला बिना वेंटिलेटर के ही एंबुलेंस में ही अपनी आखरी सांसे गिनती रही और महिला के परिजन ICU खुलने का इंतजार करते रहे. लेकिन इस बीच ही समय पर इलाज नहीं मिलने के कारण महिला ने दम तोड़ दिया.
Ujjain Woman died in ambulance, एंबुलेंस में इलाज के लिए तड़प-तड़प कर मर गई महिला, नहीं खुला ICU का दरवाजा

कोरोना वायरस (Coronavirus) से साथ में लड़ने और उसे हराने के संकल्प को लेकर शासन, प्रशासन और देशवासी एक दिखाई दे रहे हैं, लेकिन इस बीच मध्य प्रदेश (MP) के उज्जैन (Ujjain) के आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज (RD Gardi Medical College) से जो तस्वीरें सामने आई हैं वह शर्मसार और हैरान कर देने वाली हैं, जिसके कारण एक महिला की मौत हो गई.

दरअसल उज्जैन की 55 वर्षीय लक्ष्मी बाई को सांस लेने में तकलीफ और ब्लड प्रेशर बढ़ा होने के कारण पहले परिवार वाले माधव नगर अस्पताल लेकर गए, जहां पर महिला को भर्ती कर लिया गया. यहीं से देर रात Covid-19 संक्रमण का संदेह होने के चलते शुक्रवार सुबह लक्ष्मी बाई को आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज भेज दिया गया.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

चौंकाने वाली बात यह थी कि अस्पताल के ICU के गेट पर ताला लगा मिला. इधर करीब आधे घंटे तक महिला बिना वेंटिलेटर के ही एंबुलेंस में ही अपनी आखरी सांसे गिनती रही और महिला के परिजन ICU खुलने का इंतजार करते रहे. इधर मेडिकल कॉलेज के कर्मचारियों ने बड़ी मशक्कत के बाद ICU का ताला खोला और महिला का इलाज शुरू किया, लेकिन इस बीच ही समय पर इलाज नहीं मिलने के कारण महिला ने दम तोड़ दिया और महिला की मौत हो गई.

खबर लगने के बाद उज्जैन कलेक्टर शशांक मिश्रा ने कार्रवाई करते हुए माधव नगर अस्पताल प्रभारी डॉ. महेश परमट और सिविल सर्जन डॉ. आरपी परमार को हटा दिया है. वहीं सीएमएचओ ने अस्पताल प्रबंधन पर भी कार्यवाही की बात कही है.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts