गर्मी से बेहाल थे कुपोषित बच्‍चे, कलेक्‍टर ने ऑफिस से AC निकलवा कर अस्‍पताल में लगवा दिए

कलेक्‍टर ने कर्मचारियों को आदेश दिया कि उनके चैंबर और ऑफिस हॉल के AC निकालकर NRCs में लगा दिए जाएं.
गर्मी, गर्मी से बेहाल थे कुपोषित बच्‍चे, कलेक्‍टर ने ऑफिस से AC निकलवा कर अस्‍पताल में लगवा दिए

नई दिल्‍ली: मध्‍य प्रदेश के उमरिया जिले से बेहद अच्‍छी खबर आई है. यहां के पोषण पुनर्वास केंद्रों (NRCs) में भर्ती कुपोषित बच्‍चे गर्मी से बेहाल थे. कलेक्‍टर स्वरोचिष सोमवंशी ने जब यह देखा तो उन्‍होंने यहां पर एयरकंडीशनर (AC) लगाने के आदेश दिए.

जब ऑर्डर देने में देरी हुई तो कलेक्‍टर ने कर्मचारियों को आदेश दिया कि उनके चैंबर और ऑफिस हॉल के AC निकालकर NRCs में लगा दिए जाएं. उमरिया, पाली, चंदिया और मानपुर के NRCs में ये एसी लगाए जा रहे हैं.

गर्मी, गर्मी से बेहाल थे कुपोषित बच्‍चे, कलेक्‍टर ने ऑफिस से AC निकलवा कर अस्‍पताल में लगवा दिए
कलेक्‍टर ऑफिस से न‍िकाले गए एसी.

सोमवंशी की इस पहल के चलते उमरिया NRCs में AC वाला राज्‍य का पहला जिला बन गया है. उन्‍होंने ANI से बातचीत में कहा, “यह फैसला मौके पर ही कर लिया गया था. NRC बिल्डिंग के भीतर बहुत गर्मी थी. हम ACs का इंतजाम कर रहे थे लेकिन हमें लगा कि बच्‍चे हैं इसलिए तत्‍काल AC लगाए जाने की जरूरत है. ब्‍लॉक में 4 NRCs हैं, हमने चारों में ACs लगवा दिए हैं.”

गर्मी, गर्मी से बेहाल थे कुपोषित बच्‍चे, कलेक्‍टर ने ऑफिस से AC निकलवा कर अस्‍पताल में लगवा दिए

सोमवंशी के मुताबिक, NRC में कुपोषित बच्‍चों को भर्ती कर उनका इलाज किया जाता है. यहां पर घर जैसा माहौल देने का प्रयास है ताकि आदिवासी परिवार यहां पर पूरे 14 दिन इलाज करा सकें. जिले में कुपोषिण बच्‍चों की संख्‍या बहुत ज्‍यादा है.

ये भी पढ़ें

इस सोलर विलेज में खाना बनाने से रोशनी तक काम आती है सौर ऊर्जा, खत्म हो गया बिजली का काम

मध्य प्रदेश में किसानों पर दर्ज मामले वापस लेगी राज्य सरकार

Related Posts