मध्य प्रदेश में कथित गौरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी, एक महिला समेत तीन को बंधक बनाकर पीटा

संदिग्ध मांस मिलने के आरोप में कथित गौरक्षकों ने पुलिस को सूचना देने के बजाय गुंडागर्दी दिखाते हुए खुद ही तीन लोगों को बंधक बनाकर पीटा.

भोपाल. मध्य प्रदेश के सिवनी में कथित गौरक्षा के नाम पर तीन लोगों को बेरहमी से पीटा गया है. इसका वीडियो भी सामने आया है, जिसमे देखा जा सकता है कुछ युवक एक महिला समेत तीन लोगों को बंधक बनाकर बेरहमी से पीट रहे हैं. वीडियो सामने आने के बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए मारपीट करने वाले लोगों को हिरासत में ले लिया है.

मामला डूंडा सिवनी इलाके का बताया जा रहा है. जहां तीन लोगों के पास संदिग्ध मांस मिला था. यही वजह थी कि कथित गौरक्षकों ने पुलिस को सूचना देने के बजाय गुंडागर्दी दिखाते हुए खुद ही तीनों लोगों को पीटना शुरू कर दिया. इसके साथ ही उसी में से एक युवक हाथों उसकी पत्नी को भी पिटवाया.

कथित गौरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी करने वाले लोगों ने बंधकों से जबरन जय श्री राम के नारे भी लगवाए.  जब ये घटना हो रही थी तब आस-पास खड़े लोग तमाशबीन बने रहे. तीनो को पीटने के बाद पुलिस के हवाले कर दिया गया. हालांकि वीडियो सामने आने के बाद मारपीट करने वाले पांच लोगों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है.

पुलिस अधिकारी ने कहा, “ये दो-तीन दिन पुराना मामला है. थाना डूंडा सिवनी क्षेत्र अंतर्गत कुछ शरारती तत्वों के द्वारा कुछ लोगों से मारपीट की गई और उसका उन्होंने वीडियो बनाकर वायरल किया है. ये वीडियो जैसे ही हमारे संज्ञान में आया है. करवाई करते हुए इन लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कर लिया गया है. वैधानिक करवाई की जा रही है. एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और शेष आरोपियों के गिरफ्तारी की कयावद चल रही है.”

इस वीडियो को लेकर असदुद्दीन ओवैसी ने भी ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा है कि, “मुसलमानों के साथ मोदी के मतदाताओं द्वारा पैदा किए गए उपद्रवी कैसा व्यवहार करते हैं ये उसी का एक नमूना है. नए भारत में आप सभी का स्वागत है.”

इस पूरे मामले में कांग्रेस और भाजपा की टिप्पणी भी आ गई है. एमपी कांग्रेस मीडिया सेल के उपाध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता ने कहा, “पुलिस इस पूरे मामले में जांच कर रही है, दोषियों के खिलाफ जल्द कार्रवाई की जाएगी.”  मप्र बीजेपी के प्रवक्ता राहुल कोठारी ने इसपर कहा कि “ये एक षडयंत्र हो सकता है, मप्र में कांग्रेस सरकार को बचाने का. किसी के भी गले में केसरिया दुपट्टा डाल के मारपीट करवा दो और हिंदू संगठनों और बीजेपी को बदनाम करो, इस मामले की पूरी जांच होनी चाहिए, गौमाता की रक्षा होनी चाहिए, लेकिन कानून व्यवस्था बनाना प्रदेश सरकार की जिम्मेदारी है.”

गौरक्षा, मध्य प्रदेश में कथित गौरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी, एक महिला समेत तीन को बंधक बनाकर पीटा

मालूम पड़ा है कि मारपीट करनेवालों में से एक शुभम सिंह प्रज्ञा ठाकुर का करीबी है. उसका एक फोटो भी सामने आया है. ये फोटो 17 अप्रैल को आरोपी ने ही अपने फेसबुक पर लगाया था. हालांकि अभी तक प्रज्ञा ठाकुर से लड़के के किसी और तरह की बातचीत का पता नहीं चला है.  जब प्रज्ञा ठाकुर से इस पर बात की गई तो उन्होंने कहा कि मामले की तह तक जाएंगे.