पिस्‍तौल लेकर Tik Tok वीडियो बना रहे थे बच्‍चे, ट्रिगर दबने से शिरडी में नाबालिग की मौत

प्रतीक अपने परिवार के साथ एक व्यक्ति के अंतिम संस्कार कार्यक्रम के लिए शिरडी आया था.

अहमदनगर: टिक टॉक एप के कारण अभीतक कई लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. ताजा मामला महाराष्ट के शिरडी से सामने आया है, जहां पर टिक टॉक वीडियो बनाते समय गोली चलने से एक नाबालिग की मौत हो गई.

मृतक की पहचान 17 वर्षीय प्रतीक वाडेकर के रूप में हुई है. इस घटना की जानकारी देते हुए पुलिस ने बताया कि यह घटना बुधवार की है. प्रतीक अपने परिवार के साथ एक व्यक्ति के अंतिम संस्कार कार्यक्रम के लिए शिरडी आया था. यहां वे एक होटल में रुके थे.

यह हादसा होटल में ही हुआ. प्रतीक और उसके दोस्त सन्नी पवार, नितिन वाडेकर और 11 वर्षीय एक अन्य नाबालिग मिलकर पिस्तौल लेकर टिक टॉक पर शेयर करने के लिए वीडियो बनाने लगे. दुर्घटनावश पिस्तौल का ट्रिगर दब गया और गोली प्रतीक वाडेकर को जा लगी. शिरडी पुलिस थाने के निरीक्षक अनिल काटके ने बताया कि पिस्तौल प्रतीक के ही एक रिश्तेदार लेकर आए थे. इस मामले में पुलिस ने सन्नी और नितिन को गिरफ्तार कर लिया है.

टिक टॉक पर युवती ने किया सुसाइड

इससे पहले तमिलनाडु के पेराम्बलूर में भी टिक टॉक को लेकर एक आश्चर्यजनक घटना सामने आई थी, जहां पर 24 साल की एक महिला ने टिक टॉक पर लाइव वीडियो शेयर करते हुए अपने पति की डांट से आत्महत्या कर ली थी.

महिला के पति ने जब अपनी बीवी को टिक-टॉक पर वीडियो देखा तो उसने महिला से वीडियो बनाने से मना किया. इससे महिला गुस्से में आ गई और उसने जहर पी लिया. महिला के पति पलानी सिंगापुर नौकरी करते हैं. महिला के इस आखिरी वीडियो में वह जहर पीती हुई नजर आई थी और बाद में महिला की मौत हो गई थी.

कुछ दिन पहले हुआ था बैन

टिक टॉक एक सोशल मीडिया एप है और भारत में इसके 20 करोड़ यूजर्स हैं. इन यूजर्स में से 12 करोड़ हर महीने सक्रिय रहते हैं. कुछ दिन पहले, मद्रास हाईकोर्ट ने इस एप पर रोक लगा दी थी, लेकिन बाद में यह बैन हटा लिया गया था.

 

ये भी पढ़ें-    Facebook महज चार साल पुरानी भारतीय कंपनी पर क्यों लगा रहा है बेशुमार पैसा?

अलीगढ़: तांत्रिक संग सोने को तैयार न हुई पत्‍नी, पति ने नदी में डुबो कर मार डाला