मुंबई के डोंगरी में ढही इमारत, 12 लोगों की मौत, 15 परिवारों को बचाने की जद्दोजहद में NDRF

फ़िलहाल फ़ायर ब्रिगेड की टीम वहां पहुंचकर लोगों को बचाने का काम कर रही है.

मुंबई के डोंगरी इलाके में एक चार मंजिला इमात ढह गई है. इस घटना में अब तक 12 लोगों की मौत हो गई है. जोकि अभी और बढ़ सकती है. बताया जा रहा है कि इस इमारत के मलबे के नीचे 40-50 लोग दबे हो सकते हैं.

आसपास में रह रहे लोगों का मानना है कि इस इमारत में 15 परिवार रह रहे थे इसलिए मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है. फ़िलहाल एक बच्चे को सुरक्षित निकाल लिया गया है.

यह घटना दोपहर 11.40 की है इसलिए कई लोग दफ़्तर की वजह से बाहर गए हुए थे जिससे हादसे में कम लोगों के फंसे होने की संभावना जताई जा रही है.

स्थानीय लोगों का मानना है कि इमारत 80-100 साल पुरानी थी, जिसका आधा हिस्सा जर्जर था और इसके गिरने की आशंका पहले से ही थी लेकिन इस पर कोई कार्रवाई नहीं की गई. इससे आसपास के लोगों में गुस्सा भी है.

इमारत गिरने के तुरंत बाद पुलिस को फोन कर घटना की जानाकारी दी गई. जिसके बाद फ़िलहाल फ़ायर ब्रिगेड की टीम वहां पहुंचकर लोगों को बचाने का काम कर रही है.

, मुंबई के डोंगरी में ढही इमारत, 12 लोगों की मौत, 15 परिवारों को बचाने की जद्दोजहद में NDRF

घटना के बाद की बड़ी बातें

  • कांग्रेस पार्टी के नेता मिलिंद देवड़ा ने इस हादसे पर संवेदना प्रकट करते हुए कहा कि यह दुर्भाग्य से कुछ ऐसा है जो मुंबई में हर साल मॉनसून के दौरान होता है. आप देखेंगे कि दीवारें ढह गई हैं, सड़कों पर गड्ढे हैं, जिनके कारण लोग मारे जाते हैं. मुंबईकरों को पूछना चाहिए कि सरकार क्या कर रही है.
  • आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक बिल्डिंग के गिरने से 4 लोगों की मौत हो चुकी है. मौके पर NDRF की तीन टीमें राहत और बचाव कार्य में जुटी हुई है.
  • पीएम नरेंद्र मोदी ने भी इमारत के ढहने पर शोक जताया है. उन्होंने कहा कि मुंबई के डोंगरी में एक इमारत का ढहना चिंताजनक है. उन लोगों के परिवारों के प्रति मेरी संवेदना, जिन्होंने अपनी जान गंवाई. मुझे उम्मीद है कि घायल जल्द ठीक हो जाएंगे. महाराष्ट्र सरकार, एनडीआरएफ और स्थानीय अधिकारी बचाव कार्यों में जुटे हैं और जरूरतमंद लोगों की सहायता कर रहे हैं.
  • डीजी नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फोर्स एस एन प्रधान ने बताया है कि घटनास्थल पर NDRF की 3 टीमें बचाव कार्य में लगी हुई हैं. उनका कहना है कि जो इमारत ढही है उसका रास्ता बहुत संकरा है और बचाव उपकरण वाले वाहन वहां तक ​​नहीं पहुंच पा रहे हैं. टीम पैदल ही उपकरण ले जा रही है.

  • जख्मी लोगों को अस्पताल ले जाने के लिए ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया है. एंबुलेंस की कई गाड़ियां मौक़े पर मौजूद है.
  • BMC डिज़ास्टर मैनेजमेंट सेल के मुताबिक, डोंगरी में इमारत ढहने के बाद दो लोगों की मौत हुई है जबकि 5 लोगों को बचाया गया है.
  • हादसे के बाद से आस-पास के लोग राहत बचाव कार्य में जबर्दस्त मदद कर रहे हैं.
  • एनडीआरएफ की टीम भी लगातार बचावकार्य में जुटी हुई है.
  • स्थानीय लोगों के साथ मिलकर मलबे को बाहर निकालने की कोशिश की जा रही है.
  • रेस्क्यू टीम ज्यादा से ज्यादा लोगों को जिंदा बचाने के लिए प्रयास में हैं.
  • पतली गलियां होने की वजह से बड़ी मशीनें अंदर नहीं आ पाई है.
  • BMC ने प्रभावित लोगों के लिए एक शेल्टर खोला है, बिल्डिंग के निवासियों की यहां रुकने की व्यवस्था की जाएगी.
  • ये बिल्डिंग BSB डेवलपर्स की है. इस बिल्डिंग को 2012 में NOC दी गई थी.
  • MHADA के मुताबिक, ये बिल्डिंग उस लिस्ट का हिस्सा नहीं है, जिसमें खतरनाक बिल्डिंगों को शामिल किया गया है.
  • महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के मुताबिक ये बिल्डिंग 100 साल पुरानी है. निवासियों को बिल्डिंग के रिडेवलेप होने की परमिशन मिली थी.
  • फडणवीस ने कहा कि अभी हमारा फोकस लोगों को बचाने पर है. जब सारी बातें सामने आएंगी तो इसकी जांच कराई जाएगी.

गली में फायर ब्रिग्रेड की गाड़ियां भी नहीं जा पा रही है. ये टीमें पैदल ही घटनास्थल पर पहुंचकर राहत कार्य में जुट गई हैं.

अधिकारियों ने बताया कि डोंगरी इलाके में कौसरबाग नाम की यह चार मंजिला इमारत है. मंगलवार की दोपहर को अचानक इमारत गिर पड़ी. इमारत संकरी गली में होने के चलते राहत कार्य में परेशानी आ रही है.

संकरी गली में बनी इस इमारत के नीचे दुकानें बनी थीं, जबकि इसकी ऊपरी मंजिलों पर परिवार रह रहे थे.

और पढ़ें- कर्नाटक के बागी विधायकों को सुप्रीम झटका, कोर्ट ने कहा- हम स्पीकर को कोई ऑर्डर नहीं दे सकते हैं

ज़ाहिर है पिछले काफी दिनों से मुंबई में मुसलाधार बारिश हो रही है. ऐसे में आशंका ज़ाहिर की जा रही है कि लगातार हो रही बारिश की वजह से इमारत गिर गई.