चुनावों से पहले जब फडणवीस को बताते थे अगला सीएम, तब क्यों नहीं हुई आपत्ति: अमित शाह

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, "चुनावों से पहले, प्रधानमंत्री और मैंने सार्वजनिक रूप से कई बार कहा कि अगर हमारा गठबंधन जीतता है, तो देवेंद्र फडणवीस सीएम होंगे. किसी ने भी इस पर कोई आपत्ति नहीं जताई. अब वे नई मांगें लेकर आए हैं जो हमें स्वीकार्य नहीं हैं."

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को कहा कि भारत के किसी भी राज्य को सरकार बनाने के लिए महाराष्ट्र जितना समय नहीं मिला है. उनकी ये प्रतिक्रिया विपक्ष द्वारा महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराए जाने के बाद आई है.

बीजेपी और शिवसेना के बीच गठबंधन के टूटने के लिए अमित शाह ने शिवसेना पर भी निशाना साधा. शाह ने कहा कि बीजेपी ने हमेशा कहा था कि देवेंद्र फडणवीस ही महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री होंगे और अब शिवसेना नई मांगों के साथ आ रही है जो कि अस्वीकार्य हैं.

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, “चुनावों से पहले, प्रधानमंत्री और मैंने सार्वजनिक रूप से कई बार कहा कि अगर हमारा गठबंधन जीतता है, तो देवेंद्र फडणवीस सीएम होंगे. किसी ने भी इस पर कोई आपत्ति नहीं जताई. अब वे नई मांगें लेकर आए हैं जो हमें स्वीकार्य नहीं हैं.”

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने पर शाह ने कहा, “इससे पहले, किसी भी राज्य में इतना समय नहीं दिया गया था… (महाराष्ट्र में)18 दिन दिए गए थे. राज्यपाल ने विधानसभा कार्यकाल समाप्त होने के बाद ही पार्टियों को आमंत्रित किया.”

शाह ने आगे कहा, “न तो शिवसेना और न ही कांग्रेस-एनसीपी ने कोई दावा पेश किया और न ही हमने कोई दावा पेश किया. आज भी अगर किसी पार्टी के पास पर्याप्त संख्या हो तो वह राज्यपाल से संपर्क कर सकती है.”

ये भी पढ़ें- कुलभूषण जाधव मामला: पाकिस्तानी सेना ने आर्मी एक्ट में किसी भी बदलाव से इनकार किया