महाराष्ट्र में शिवसेना का होगा अगला सीएम, स्थापना दिवस पर लिया संकल्प

सामना में लिखा है कि बीजेपी से गठबंधन अवश्य है लेकिन शिवसेना अपने तेवरवाला संगठन है. एक संकल्प लेकर शिवसेना आगे बढ़ी है.

मुंबई: भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना के बीच महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से पहले एक बार फिर से तल्खी नजर आई है. शिवसेना ने राज्य में अपनी पार्टी का सीएम होने की इच्छा जाहिर की है. साथ ही ढाई-ढाई साल के लिए सीएम का फॉर्मूला भी दिया है. पार्टी के स्थापना दिवस पर शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ में एक लेख लिखकर यह बात कही है.

‘शिवसेना का मुख्यमंत्री विराजमान होगा’
शिवसेना ने सामना में लिखा, “महाराष्ट्र और देश की राजनीति में शिवसेना आज धारदार तलवार के तेज से चमक रही है. बीजेपी से गठबंधन अवश्य है लेकिन शिवसेना अपने तेवरवाला संगठन है. एक संकल्प लेकर शिवसेना आगे बढ़ी है. इसी संकल्प के आधार पर हम कल विधानसभा को भगवा करके छोड़ेंगे और शिवसेना के 54वें स्थापना दिवस समारोह में शिवसेना का मुख्यमंत्री विराजमान होगा. चलिए, यह संकल्प लेकर काम शुरू करें!’

…ऐसे पहले सीएम बने फडणवीस
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी बुधवार को शिवसेना के स्थापना दिवस कार्यक्रम में हिस्सा लिया. फडणवीस राज्य के ऐसे पहले मुख्यमंत्री बन गए हैं जो अन्य पार्टी से ताल्लुक रखते हुए शिवसेना के स्थापना दिवस कार्यक्रम में शामिल हुए हैं. बता दें कि 19 जून 1966 को शिवसेना की स्थापना हुई थी.

Shiv Sena, महाराष्ट्र में शिवसेना का होगा अगला सीएम, स्थापना दिवस पर लिया संकल्प
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी बुधवार को शिवसेना के स्थापना दिवस कार्यक्रम में हिस्सा लिया.

शिवसेना प्रमुख ने इस दौरान कहा, “आप भी (सीएम फडणवीस) कार्यक्रम कीजिए और हमें भी बुलाइए. लेकिन सब कुछ बराबर होना चाहिए. शिव सैनिक एक अलग रसायन हैं. प्यार भी बहुत करता है और दुश्मनी भी हद से ज्यादा.”

‘बाला साहेब का सपना पूरा करना है’
वहीं सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कार्यक्रम में कहा, “बीजेपी और शिवसेना एक बार फिर से जीत के आएंगे. इसके बाद सरकार के गठन पर चर्चा होगी. हमारे कार्यकर्तओं को अपना लक्ष्य आंखों के सामने रखना चाहिए. महाराष्ट्र को समृद्ध बनाने का जो सपना बाला साहेब ठाकरे ने देखा था उसे पूरा करना है.”

ये भी पढ़ें-

नौ महीने की मासूम से पड़ोसी ने की रेप की कोशिश, नाकाम होने पर गला घोंटकर की हत्या

लू-चमकी बुखार से बिहार का बुरा हाल, हवाई सर्वेक्षण करेंगे CM नीतीश कुमार

सिंधिया vs कमलनाथ: मध्यप्रदेश में कांग्रेस के लिए संकट, दोनों खेमे के मंत्रियों के बीच हुई तीखी नोकझोंक