मुंबई पर Cyclone Nisarga के खतरे के बीच BMC की एडवाइजरी, क्या करें-क्या न करें?

मुंबई के पड़ोसी शहरों को भी हाई अलर्ट पर ही रखा गया है. मुंबई के बृहन्मुंबई म्युनिसिपल कारपोरेशन (BMC) ने साइक्लोन के वक्त क्या करना है और क्या नहीं की एक लिस्ट तैयार की है.
BMC advisory amidst the threat of cyclone exposure on Mumbai, मुंबई पर Cyclone Nisarga के खतरे के बीच BMC की एडवाइजरी, क्या करें-क्या न करें?

निसर्ग तूफान (Cyclone Nisarga) मुंबई के करीब आ रहा है और इसके दोपहर में अलीबाग से टकराने का अदेशा है. इसके चलते महाराष्ट्र और गुजरात दोनों ही राज्यों को अलर्ट पर रखा गया है, साथ ही गोवा के तटीय इलाकों को भी अलर्ट पर रहने को कहा गया है. मौसम विभाग ने कहा है कि जब ये अलीबाग से टकराएगा उस वक्त हवाओं की रफ्तार करीब 100-110 से 120 किलोमीटर तक की होगी. कोरोनावायरस (Coronavirus) से प्रभावित महाराष्ट्र (Maharashtra) के कई जिलों पर इस साइक्लोन का खतरा मंडरा रहा है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

मुंबई के पड़ोसी शहरों को भी हाई अलर्ट पर ही रखा गया है. मुंबई के बृहन्मुंबई म्युनिसिपल कारपोरेशन (BMC) ने साइक्लोन के वक्त क्या करना है और क्या नहीं की एक लिस्ट तैयार की है. अगर आप मुंबई में हैं या आपका कोई दोस्त या रिश्तेदार मुंबई (Mumbai) और उसके आस-पास के शहरों में है तो ये खबर जरूर पढ़ें.

क्या करें

  • जो भी चीजें घर के बाहर हैं उन्हें अच्छे से बांध दें, या फिर हो सके तो उसे घर के अंदर ही रखें.
  • सभी महत्वपूर्ण डॉक्यूमेंट्स और ज्वैलरी को एक प्लास्टिक बैग में सील कर दें.
  • बैटरी से चलने वाले उपकरणों की लगातार निगरानी करते रहें.
  • टीवी और रेडियो पर अधिकारियों द्वारा दी जा रही सूचनाओं पर नजर रखें.
  • आपात स्थिति से निपटने की कोशिश करें.
  • अगर आप मिट्टी के घर या झोपड़ी में नहीं रहते हैं तो अपने घर के एक हिस्से को इमरजेंसी शेल्टर बनाएं और ये सुनिश्चित करें कि घर के सभी सदस्य साइक्लोन के वक्त उस जगह का कैसे इस्तेमाल कर सकेंगे.
  • एक इमरजेंसी किट तैयार रखें.
  • खिड़कियों से दूर रहें, कुछ खिड़कियां बंद करें और कुछ को खुला रहने दें, जिससे कि दवाब मेंटेन रहे.
  • घर के किनारों से दूर रहें, कोशिश करें साइक्लोन के दौरान घर के सेंटर में ही रहें.
  • आपात स्थिति में स्टूल या किसी मजबूत फर्नीचर के नीचे छुपें और उसे कसकर पकड़े रहें.
  • अपने हाथों को सिर और गर्दन को बचाने के लिए इस्तेमाल करें.
  • ऑडिटोरियम, मॉल और रूफ एरिया में जाने से बचें.
  • अगर आपके आस-पास कोई खाली जगह है और पर्याप्त समय है तो सही शेल्टर ढूंढ़ लें.
  • पूर्व निर्धारित या प्रशासन निर्धारित स्थान पर ही मूमेंट करें.
  • सभी गैर जरूरी बिजली के उपकरणों को बंद कर दें.
  • पीने का पानी साफ जगह पर स्टोर करें.
  • फंसे हुए या घायल हुए लोगों की मदद करें, जरूरत पड़ने पर प्राथमिक उपचार दें.
  • एयर लीक की जांच कर लें, यदि आपको गैस से बदबू आती है या कोई लीक आवाज सुनाई देती है, तो तुरंत खिड़कियां खोलें और बिल्डिंग से बाहर निकल जाएं. यदि संभव हो, तो गैस वाल्व बंद करें और गैस कंपनी को रिपोर्ट करें.
  • बिजली के उपकरणों की जांच करें, कोई परेशानी दिखे तो कनेक्शन बंद कर दें, और इलेक्ट्रीशियन को बुलाएं.
  • शारीरिक रूप से विकलांग, बुजुर्ग, पड़ोसी जैसे बच्चों की विशेष मदद करें.

क्या न करें

  • अफवाहें न फैलाएं और न ही मानें.
  • चक्रवात के दौरान किसी भी वाहन को चलाने या सवारी करने का प्रयास न करें.
  • क्षतिग्रस्त इमारतों से दूर रहें.
  • घायल लोगों को एक जगह से दूसरी जगह न ले जाएं जब तक ऐसा करना सुरक्षित न लगे.
  • तेल और अन्य ज्वलनशील पदार्थों को फैलने न दें, अगर ऐसा हो तो तुरंत उसे साफ कर दें.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts