दो साल जेल काटने वाले नेता को भी मिली उद्धव ठाकरे की कैबिनेट में जगह

छगन भुजबल इकलौते ऐसे नेता रहे जिन्‍होंने शपथ ग्रहण करते वक्‍त बाल ठाकरे और शरद पवार दोनों का नाम लिया.
NCP leader Chhagan Bhujbal, दो साल जेल काटने वाले नेता को भी मिली उद्धव ठाकरे की कैबिनेट में जगह

मुंबई: महाराष्‍ट्र में गुरुवार को कांग्रेस, एनसीपी के समर्थन से शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे ने सीएम पद की शपथ ली. उद्धव ठाकरे के साथ शिवसेना के दो, कांग्रेस के दो और एनसीपी के दो नेताओं ने मंत्रिपद की शपथ ली. उद्धव के साथ शपथ लेने वालों में सबसे कंट्रोवर्शियल चेहरा रहे छगन भुजबल.

छगन भुजबल इकलौते ऐसे नेता रहे जिन्‍होंने शपथ ग्रहण करते वक्‍त बाल ठाकरे और शरद पवार दोनों का नाम लिया. बाकी सभी नेताओं ने अपनी-अपनी पार्टी के नेताओं का नाम लिया, लेकिन भुजबल ने बाल ठाकरे और शरद पवार दोनों का नाम इसलिए लिया, क्‍योंकि वह पहले शिवसेना में थे और बाद में शरद पवार के साथ पहले कांग्रेस और बाद में एनसीपी में शामिल हो गए थे.

NCP leader Chhagan Bhujbal, दो साल जेल काटने वाले नेता को भी मिली उद्धव ठाकरे की कैबिनेट में जगह

सब्‍जी बेचा करते थे छगन भुजबल

छगन भुजबल एक जमाने में मुंबई के भायखला बाजार में सब्‍जी बेचा करते थे. वह बाला साहेब ठाकरे से काफी प्रभावित हुए और राजनीति में आने का फैसला कर लिया.

1985 में वह मुंबई के मेयर में चुने गए थे. समय के साथ-साथ बाला साहेब का छगन भुजबल का भरोसा बढ़ने लगा और इसी के साथ भुजबल का राजनीतिक कद भी बढ़ता चला गया, लेकिन 1990 के विधानसभा चुनावों में पहली बार शिवसेना के 52 विधायक चुने गए.
बाल ठाकरे ने मनोहर जोशी को विपक्ष के नेता का पद दे दिया, यह बात छगन भुजबल को नागवार गुजरी. इसी के बाद छगन भुजबल ने पार्टी छोड़ने का फैसला कर लिया.

भुजबल पर बाद में कई आरोप लगे. अब्दुल करीम तेलगी ने मनी लॉन्ड्रिंग के जरिए करोड़ों का घोटाला किया था. इस मामले में भुजबल का भी नाम सामने आया. वह 2004 से 2014 तक सार्वजनिक विभाग के मंत्री रहे. इस दौरान उन पर पद के गलत इस्तेमाल करने जैसे भूमि अधिग्रहण के भी संगीन आरोप लगे.

2014 में जब बीजेपी-शिवसेना सत्‍ता में आए तो भुजबल कई संगीन मामलों में फंसते चले गए. मार्च 2016 में दिल्ली में बने महाराष्ट्र सदन घोटाला मामले में उनको गिरफ्तार कर लिया गया. उनके खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया गया. इसके बाद भुजबल मुंबई की आर्थर रोड जेल में भेज दिए गए. जेल में दो साल बिताने के बाद उन्‍हें जमानत मिली.

भुजबल के बारे में अहम बातें

-छगन भुजबल येवला विधानसभा सीट से विधायक हैं.

-छगन भुजबल का जन्म 15 अक्टूबर 1947 में हुआ था. भुजबल ने 1960 के दशक में शिवसेना से राजनीति की शुरुआत की थी.

-भुजबल ने मुंबई के वीजेटीआई से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा किया है.

-छगन भुजबल शिवसेना संस्थापक बाल ठाकरे से प्रभावित होकर राजनीति में आए. वह एक जमाने में शिवसेना के कद्दावर नेता थे.

-छगन भुजबल ने 1991 में शिवसेना छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए थे.

-बाद में जब शरद पवार ने एनसीपी बनाई तो छगन भुजबल भी उनके साथ आ गए.

-छगन भुजबल को मनी लॉन्ड्रिंग केस में 2016 में गिरफ्तार किया गया था, इसके बाद वह दो साल जेल में रहे.

Related Posts