महाराष्‍ट्र: शिवसेना को कांग्रेस का झटका, अब NCP को राज्‍यपाल का न्‍योता, पढ़ें लेटेस्‍ट अपडेट

आदित्‍य ठाकरे ने बताया कि हमने बहुमत जुटाने के लिए राज्‍यपाल से 48 घंटे का समय मांगा था, जो उन्‍होंने देने से इनकार कर दिया. हालांकि, राज्‍यपाल ने सरकार बनाने के उनके दावे को खारिज नहीं किया है.
Governor invites NCP shiv sena, महाराष्‍ट्र: शिवसेना को कांग्रेस का झटका, अब NCP को राज्‍यपाल का न्‍योता, पढ़ें लेटेस्‍ट अपडेट

मुंबई: महाराष्‍ट्र की सियासत में सोमवार को हाई वोल्‍टेज ड्रामा देखने को मिला. दोपहर तक ऐसा लग रहा था कि कांग्रेस-एनसीपी ने शिवसेना को समर्थन देने का मन बना लिया है. कांग्रेस के नेताओं के हवाले से शिवसेना को समर्थन देने की बात भी सामने आई. इन सब खबरों के बीच जब आदित्‍य ठाकरे के नेतृत्‍व में शिवसेना का प्रतिनिधिमंडल राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी से मिला तो ऐसा लगा मानो महाराष्‍ट्र में गैर बीजेपी सरकार बनने का रास्‍ता साफ हो गया है, लेकिन जैसे ही आदित्‍य ठाकरे ने बाहर आकर मीडिया से बात की, कहानी एकदम पलट गई.

आदित्‍य ठाकरे ने मीडिया से कहा कि रविवार को राज्‍यपाल ने हमें सरकार बनाने का न्‍योता भेजा था. उन्‍होंने हमें सोमवार शाम 7.30 बजे तक का वक्‍त दिया था और हम पौने सात बजे उनके पास पहुंच गए. आदित्‍य ठाकरे ने बताया कि हमने बहुमत जुटाने के लिए राज्‍यपाल से 48 घंटे का समय मांगा था, जो उन्‍होंने देने से इनकार कर दिया. हालांकि, राज्‍यपाल ने सरकार बनाने के उनके दावे को खारिज नहीं किया है.

आदित्‍य ठाकरे जब मीडिया से बातचीत में ये बातें बता रहे थे, उससे कुछ देर पहले ही कांग्रेस की तरफ से सफाई जारी करते हुए कहा गया कि अभी तक शिवसेना को समर्थन का फैसला नहीं लिया गया है. थोड़ी ही देर बाद कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे मीडिया के सामने आए और कहा कि सोनिया गांधी एक बार फिर शरद पवार से बात करेंगी, उसके बाद फैसला लिया जाएगा.

इधर, कांग्रेस का बयान आया और उधर, महाराष्‍ट्र राजभवन की ओर से एक प्रेस रिलीज जारी कर दी गई. इसमें बताया गया कि शिवसेना का प्रतिनिधिमंडल सोमवार को राज्‍यपाल से मिलने के लिए आया. उन्‍हें बहुमत से संबंधित समर्थन पत्र लेकर आना था, लेकिन शिवसेना ऐसा करने में नाकाम रही. शिवसेना ने बहुमत जुटाने के लिए 48 घंटे का और समय मांगा था, जिसे देने से राज्‍यपाल ने इनकार कर दिया.

राजभवन की ओर से जारी इस प्रेस रिलीज के कुछ देर बाद ही महाराष्‍ट्र का सियासी ड्रामा उस समय अपने चरम पर पहुंच गया, जब एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा कि उनकी पार्टी का एक प्रतिनिधिमंडल राज्‍यपाल के पास मिलने गया है. हमें जो जानकारी मिली है, उसके हिसाब से राज्‍यपाल ने हमें सरकार बनाने का न्‍योता देने के लिए बुलाया है. नवाब मलिक ने कहा कि शिवसेना को 24 घंटे का समय दिया गया था, जो कि कम था. सरकार बनाने के लिए तीनों दलों के बीच सहमति नहीं बन पाई.

नवाब मलिक ने इसके बाद कहा कि अगर राज्‍यपाल उन्‍हें सरकार बनाने का न्‍योता देते हैं तो उसके बाद कांग्रेस के साथ चर्चा की जाएगी और उसके बाद ही कोई निर्णय लिया जाएगा.

नवाब मलिक के बयान के बाद महाराष्‍ट्र राजभवन से खबर आई कि एनसीपी को सरकार बनाने के लिए 24 घंटे का वक्‍त दिया गया है, उसे कल रात 8.30 बजे तक बहुमत साबित करना होगा.

Related Posts