सीएम देवेन्द्र फडणवीस ने कांग्रेस को क्यों बताया मंदबुद्धि बच्चा?

'केंद्र और राज्य में कांग्रेस-एनसीपी की सत्ता थी, तो पैसे नहीं होने की बात क्यों की जाती है?'

मुंबई: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने ईवीएम से छेड़छाड़ के आरोपों को लेकर कांग्रेस और एनसपी पर करारा तंज कसा है. फडणवीस ने इन्हें (कांग्रेस और एनसीपी को) ऐसे मंदबुद्धि बच्चे के समान बताया जो परीक्षा में फेल होने के बाद कलम पर दोष मढ़ता है. फडणवीस एक अगस्त से शुरू हुए अपने जनसंपर्क कार्यक्रम ‘महाजनादेश यात्रा’ के दूसरे चरण के समापन पर बोल रहे थे. इस दौरान केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी वहां मौजूद थे.

फडणवीस ने कहा, ‘कांग्रेस और एनसीपी की हालत एक मंदबुद्धि बच्चे की तरह है जो बिल्कुल भी पढ़ाई नहीं करता और फेल हो जाता है. फिर बाद में कलम पर दोष मढ़ता है. जब एनसीपी की उम्मीदवार सुप्रिया सुले बारामती से चुनाव जीतीं तो ईवीएम के साथ कोई परेशानी नहीं थी लेकिन जब अन्य जगहों पर बीजेपी की जीत हुई तो उन्होंने मशीनों पर इसका दोष मढ़ दिया.” उन्होंने कहा, ‘ईवीएम के साथ कोई समस्या नहीं बल्कि यह आपके दिमाग का फितूर है.’

इस दौरान केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कांग्रेस और एनसीपी को जमकर लताड़ लगाई. उन्होंने कहा कि 15 साल की इनकी करतूत से उबरने में महाराष्ट्र को समय लगेगा. फिर भी केंद्र में नरेंद्र मोदी और राज्य में देवेंद्र फडणवीस की जोड़ी ने महाराष्ट्र को विकास पथ पर आगे बढ़ाया है, इसलिए देवेंद्र को एक बार फिर मौका मिलना चाहिए.

शाह ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार शिंदे के गृह नगर में यह भी कहा कि अगर बीजेपी अपने दरवाजे पूरी तरह खोल दे तो एनसीपी और कांग्रेस में शरद पवार और पृथ्वीराज चव्हाण को छोड़कर कोई नहीं बचेगा. उन्होंने कहा, ‘शरद पवार ने अपने कार्यकाल में महाराष्ट्र के उद्धार के लिए कुछ भी नहीं किया. केंद्र और राज्य में कांग्रेस-एनसीपी की सत्ता थी, तो पैसे नहीं होने की बात क्यों की जाती है?’