निर्मला सीतारमण के बारे में क्या ही कहूं, केंद्र सरकार पॉलिसी बनाने में फेल: मनमोहन सिंह

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के मद्देनजर मनमोहन सिंह ने मुंबई में प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया. वह मोदी सरकार पर सख्त नजर आए.

मनमोहन सिंह ( Manmohan Singh) जब प्रधानमंत्री थे तब उन पर पॉलिसी पैरालाइसिस के आरोप लगते थे. आज मनमोहन सिंह ने यही आरोप नरेंद्र मोदी (Narendra Modi ) सरकार पर लगाया. पूर्व पीएम ने कहा कि पॉलिसी बनाने में केंद्र सरकार विफल साबित हुई है. इसे उन्होंने मौजूदा आर्थिक सुस्ती का मुख्य कारण बताया.

मनमोहन सिंह ने मुंबई में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान चुप्पी तोड़ी. वो मोदी सरकार पर सख्त नजर आए. जब उनसे वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बारे में पूछा गया तो वो बोले – मैंने निर्मला सीतारमण का बयान सुना लेकिन मैं उनपर कुछ नहीं कहना चाहता. सरकार सुस्त पड़ी अर्थव्यवस्था का ठेका दूसरे पर डालने में लगी हुई है.

मनमोहन सिंह की मुख्य बातें-

सरकार की गलत नीतियां लोगों के सपने को तोड़ रहीं हैं.

अर्बन एरिया में हर तीसरा व्यक्ति बेरोजगार है.

इन्वेंस्टर दूसरे स्टेट में शिफ्ट हो रहे हैं.

महराष्ट्र नंबर 1 हुआ करता था इन्वेस्टमेंट के मायने में.

मुंबई और महाराष्ट्र में आर्थिक सुस्ती के कारण परिणाम हो रहा है. पिछले 5 वर्षों में कई फैक्टरीज बंद हुईं, नासिक औरंगबाद, नागपुर अमरावती में उद्योग और ऑटोमोबाइल फैक्टरीज पर असर पड़ रहा है .

सरकार की गलत नीतियों के कारण अर्थव्यवस्था बाधित हो रही है.

कांग्रेस का जन्म मुंबई से ही हुआ है. भारत की अर्थव्यवस्था को मुंबई से ही दिशा मिलती है. देश के टैक्स कलेक्शन का एक तिहाई हिस्सा भी मुम्बई से ही आता है. लेकिन स्लोडाउन का असर लाखों पर पड़ रहा है. मुंबई और महाराष्ट्र पर अर्थव्यवस्था में आई गिरावट का असर पड़ा.

पिछले पांच सालों में सबसे ज़्यादा फैक्टरी महाराष्ट्र में बंद हुए हैं.

पांच सालों में चीन से आयात 1 लाख करोड़ से भी ज़्यादा हुए हैं. पुणे के ऑटो मैन्युफैक्चरिंग सेंटर पर भी अर्थव्यवस्था का असर पड़ा है.

जब मैं प्रधानमंत्री था तब मैं महाराष्ट्र के कई नेताओं के साथ काम करता था, बांद्रा वर्ली सी लिंक एक उदाहरण है कि हमने कैसा काम किया. ग्रामीण विकास, किसान कर्जमाफी हमारे समय हुई. राज्य के कई सारी परेशानियां कांग्रेस-एनसीपी सरकार के आने से खत्म हो जाएंगी.

केंद्र और राज्य की बीजेपी सरकार लोगों के लिए पॉलिसी बनाने में फेल हो गई है.

महाराष्ट्र निवेशकों के लिए पहली चॉइस होती है, अब किसान आत्महत्या में नंबर 1 है. किसान आत्महत्या पिछले 5 सालों में दोगुनी हुई है. इम्पोर्ट एक्सपोर्ट पालिसी का असर भी उनपर पड़ा है.

लोग कम पैसे में काम करने को मजबूर हैं. निवेशक दूसरे राज्य में जा रहे हैं.

पीएमसी मामले में जो भी हुआ दुःखद है.

मैं पीएम और सीएम से अपील करता हूं की वो जल्द कुछ राहत पहुचाएं.

लोकसभा सेशन के दौरान ये मुद्दा उठाएंगे.

मुझे उम्मीद है सरकार कोई ठोस कदम उठाएगी 16 लाख डिपॉजिटर के लिए.

जो किडनी ट्रांसप्लांट से जुड़े मरीज हैं उन्हें पीएम रिलीफ फंड से मदद मिलनी चाहिए.

मैंने जो भी जवाब दिया है वो गवर्नर के पास तक जाएगा उम्मीद है वो इस पर जरूरी कदम उठाएंगे.

फाइनेंस मिनिस्टर मुझसे मिलने आयीं थी बजट पेश करने के समय मैंने उन्हें शुभकामनाएं दी थीं.

5 ट्रिलियन इकोनॉमी तक पहुँचने के लिए 10 परसेंट ग्रोथ चाहिए हर साल.

ये सरकार हेड लाइन्स मैनेज करने में विश्वास रखती है ना कि कोई ठोस कदम उठाने में.

370 के हक में कांग्रेस पार्टी ने वोट किया, अगर कुछ बदलाव होता है तो पब्लिक के सहमति से हो. दबाव डालकर नहीं होना चाहिए. हम 370 का विरोध नहीं कर रहे.

जहां तक प्रफुल्ल पटेल का सवाल है जब तक अपराध साबित नहीं होता तब तक वो दोषी नहीं है.

इंदिरा गांधी ने वीर सावरकर के पोस्टर स्टैम्प जारी किए थे, हम सावरकर जी के खिलाफ नहीं है लेकिन सावरकर जी के हिंदुत्व आड़ीयोलॉजी के पक्ष में नहीं है.

ये भी पढ़ें-

कैसे चुनें अपना नेता? उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने बताया ‘4C’ फॉर्मूला