सिर के आर-पार हुआ सरिया, मौत को मात दे सुनाई आपबीती

बुधवार को कुआं खोदते समय संजय लोहे के सरिया पर गिर गए. संजय के सिर में लोहे का एक सरिया आर-पार हो गया.

नागपुर: “जाको राखे साईंया, मार सके न कोई” यह कहावत तो आपने अक्सर सुनी होगी. महाराष्ट्र में यह कहावत सच साबित हुई है. दरअसल नागपुर के पास बालाघाट में रहने वाले संजय बाहे मजदूरी का काम करते हैं. बुधवार को कुआं खोदते समय संजय लोहे के सरिया पर गिर गए. संजय के सिर में लोहे का एक सरिया आर-पार हो गया.

युवक को नागपुर के अस्पताल में भर्ती कराया गया और उसी दिन डॉक्टरों ने सिर से सरिया निकाल सर्जरी कर जान बचा ली. संजय की उम्र 21 साल है जो अपनी मजदूरी के बचे हुए पैसे से कुआं बना रहा था. संजय ने ऑपरेशन के बाद बताया कि “कुएं का निचला हिस्सा पूरा हो गया था लेकिन सरिया निकालनी बाकी थी. जिस स्टैंड पर मैं बैठा था वह अचानक से टूट गया और मैं सरिया पर गिर गया.”

न्यूरोसर्जन डॉ. प्रमोद गिरि और उनकी टीम ने संजय की सर्जरी कर सरिया निकाली. ऑपरेशन के बाद भी उन्हें आईसीयू में रिफर करने की जरूरत नहीं पड़ी. ऑपरेशन के बाद भी संजय होश में थे और स्थिर थे.

संजय को पैर में चोटें आई हैं. डॉक्टरों ने बताया कि सरिया से ब्रेन टिश्यू को नुकसान पहुंचा है. लेकिन जो हिस्सा प्रभावित हुआ है उससे मरीज को भविष्य में व्यवहार परिवर्तन और चिड़चिड़ापन जैसी छोटी-मोटी शिकायत हो सकती है. कोई भी चोट जानलेवा नहीं है.

यह भी पढ़ें-  महिला की आंख के अंदर मिलीं 4 जिंदा मधुमक्खियां, डॉक्टर भी हैरान