जयंत पाटिल बने NCP विधायक दल के नेता, अजित पवार को हटाया

अजित पवार को 30 अक्टूबर को विधानसभा का नेता चुन लिया गया था. अब उनकी जगह पर जयंत पाटिल को NCP का नया नेता चुना गया है और उन्हें अन्य निर्णयों के लिए अधिकृत किया गया है.
maharashtra jayant patil, जयंत पाटिल बने NCP विधायक दल के नेता, अजित पवार को हटाया

महाराष्ट्र में चल रहे नाटकीय घटनाक्रम के तहत राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) की शनिवार शाम को हुई बैठक में अजित पवार पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए पार्टी ने उन्हें विधायक दल के नेता पद से हटा दिया है. NCP ने उनके स्थान पर प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटिल को विधायक दल का नया नेता चुना है.

पार्टी की यहां आयोजित एक बैठक में NCP अध्यक्ष शरद पवार और वरिष्ठ नेताओं के साथ ही विधायक शामिल हुए. उन्हें विधायकों को व्हिप जारी करने के साथ ही अन्य अधिकार दिए गए थे, जो तत्काल प्रभाव से वापस ले लिए गए.

अब उनकी जगह पर जयंत पाटिल को NCP का नया नेता चुना गया है और उन्हें अन्य निर्णयों के लिए अधिकृत किया गया है. अजित पवार को 30 अक्टूबर को विधानसभा का नेता चुन लिया गया था. महाराष्ट्र चुनाव परिणाम 24 अक्टूबर को घोषित हुए थे.

इससे पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के साथ सरकार के गठन को लेकर पार्टी प्रमुख शरद पवार ने सुबह कहा था, “NCP इसका पूर्ण विरोध करती है. यह पार्टी के खिलाफ उठाया गया कदम है और अजित पवार ने पार्टी अनुशासन की धज्जियां उड़ा दी हैं.”

दूसरी तरफ महाराष्ट्र में राजनीतिक घटनाक्रम तेजी से बदलने के बाद शनिवार शाम शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने भी यहां के एक होटल में अपने पार्टी विधायकों के साथ बैठक की.

इससे पहले, ठाकरे ने अपने पूर्व सहयोगी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) पर निशाना साधते हुए कहा, “आज सुबह राजभवन में जो कुछ हुआ, वह महाराष्ट्र में लोकतंत्र पर ‘फर्जिकल स्ट्राइक’ है.”

गौरतलब है कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने शनिवार सुबह आठ बजे बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ दिलवाई. NCP प्रमुख शरद पवार के बागी भतीजे अजित पवार ने भी उनके साथ उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली.

NCP ने इसके बाद प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि बीजेपी और अजित पवार ने महाराष्ट्र में सरकार भले बना ली है, लेकिन वे बहुमत साबित नहीं कर पाएंगे.

शरद पवार ने दोपहर में पत्रकारों से बातचीत में कहा, “पार्टी की बैठक में उपस्थिति के लिए विधायकों के हस्ताक्षर लिए गए थे. यही सूची अजित पवार ने राज्यपाल को विधायकों के समर्थन पत्र के रूप में सौंपी है.”

शरद पवार ने कहा कि शिवसेना-NCP-कांग्रेस गठबंधन सरकार बनाने के कगार पर था, लेकिन शनिवार सुबह सात बजे उन्हें पता चला कि घटनाक्रम बदल चुका है.

पवार ने कहा, “हमारे पास कुल 169 विधायकों का समर्थन है, इसलिए हम (तीनों पार्टियां) साथ आए. हमारे पास संख्याबल था और सरकार बनाने वाले थे. राज्यपाल ने जो आज किया, उससे मैं आश्चर्यचकित हूं.” (इनपुट आईएएनएस)

ये भी पढ़ें-

फडणवीस, अजीत पवार ने किया शकुनी और दुर्योधन जैसा काम: कांग्रेस

महाराष्ट्र की सियासत पर नेताओं ने शायराना अंदाज में कसे तंज, लिखा- …बेवफा हो गए देखते-देखते

Related Posts