महाराष्ट्र का उपमुख्यमंत्री बनते ही अजित पवार को सिंचाई घोटाले में मिली क्लीन चिट

एसीबी सूत्रों के हवाले से खबर है कि अजित पवार के खिलाफ सिंचाई घोटाले से जुड़ा कोई केस नहीं है.
Ajit Pawar Case, महाराष्ट्र का उपमुख्यमंत्री बनते ही अजित पवार को सिंचाई घोटाले में मिली क्लीन चिट

महाराष्ट्र के नवनिर्वाचित उप मुख्यमंत्री अजित पवार को एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) से सिंचाई घोटाले में क्लीन चिट मिल गई है. एसीबी सूत्रों के हवाले से खबर है कि अजित पवार के खिलाफ सिंचाई घोटाले से जुड़ा कोई केस नहीं है.

सूत्रों के मुताबिक, महाराष्ट्र के एंटी करप्शन ब्यूरो का कहना है कि आज जो मामले बंद किए गए हैं, वे सशर्त बंद किए गए हैं. अगर इन मामलों में ज्यादा जानकारी सामने आती है या अदालतें आगे की जांच का आदेश देती हैं तो जांच दोबारा शुरू हो सकती है.

कांग्रेस पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट करते हुए पीएम मोदी और बीजेपी पर हमला बोला है. प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा, अभी-अभी प्रधानमंत्री जी झारखंड में भ्रष्टाचार पर मनमोहक भाषण दे रहे हैं और उसी समय महाराष्ट्र में उसे लागू किया जा रहा है. उन्होंने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा, “अब इनका (बीजेपी) One Nation, One Slogan है- ‘हमारे साथ आओ, सारे पाप धुल जाएंगे.”

एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) सूत्रों के मुताबिक, सिंचाई घोटाले से संबंधित 3000 प्रोजेक्ट्स जांच के घेरे में हैं और इनमें से 9 मामलों को सबूतों के अभाव में बंद कर दिया गया है. अभी तक जिन टेंडर की जांच की गई है, उनमें एसीबी को अजित पवार के खिलाफ कुछ भी नहीं मिला है.


अजित पवार को क्लीन चीट मिलते ही कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर हमला बोला है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट करके कहा कि ‘भाजपा-अजित पवार द्वारा महाराष्ट्र के प्रजातंत्र चीरहरण अध्याय की असलियत उजागर. एक नाजायज सरकार द्वारा एंटी करप्शन ब्यूरो को सब मुकदमे बंद करने का आदेश. खाएंगे और खिलाएंगे भी. क्योंकि ये ईमानदारी के लिए ‘जीरो टॉलरन्स’ वाली सरकार है. मोदी है तो मुमकिन है.’

इस बीच एसीबी की ओर से इस मामले पर सफाई आई है. इसमें कहा गया है कि जिन मामलों को बंद किया गया है वो अजित पवार से जुड़े नहीं हैं. महाराष्ट्र एसीबी ने सोमवार को कहा कि उसने 9 मामलों को बंद कर दिया है. ये मामले अजित पवार से जुड़े हुए नहीं हैं.

ये भी पढ़ें-

बंगाल उपचुनाव: BJP उम्मीदवार जयप्रकाश मजूमदार के साथ मारपीट, लात मारकर झाड़ियों में फेंका

प्रदूषण पर SC की फटकार- घुटकर क्यों मरें? विस्फोटक के 15 बैग से शहर को उड़ा दीजिए

Related Posts