मुंबई के अंडरवर्ल्‍ड डॉन अब कंट्रोल में, बॉलीवुड स्‍टार्स की सिक्‍योरिटी कम कर सकती है पुलिस

खालिद ने लकड़ावाला के खिलाफ पिछले साल नवंबर में शिकायत की थी. इसके बाद पुलिस ने बिहार को धर दबोचा. लकड़ावाला को उस दौरान गिरफ्तार किया गया जब उसकी सोनिया शेख फेक पासपोर्ट पर विदेश भागने की फिराक में थी.

मुंबई पुलिस ने नौ बिल्डरों को प्रदान की गई सुरक्षा वापस ले ली है. ये सुरक्षा उन्हें अंडरवर्ल्ड से खतरे को देखते हुए दी गई थी. इन नौ लोगों में बांद्रा का एक बिल्डर और वक्फ बोर्ड का सदस्य भी शामिल है. इन सबसे ये कहकर सुरक्षा वापस लाी गई कि ज्यादातर खतरनाक गैंगस्टर्स को जेल में डाल दिया गया है. पुलिस ने कहा कि फिल्मी सितारों और वीआईपी सहित मशहूर हस्तियों के सुरक्षा कवर की भी समीक्षा की जाएगी. एनुअल एससमेंट के आधार पर उन्हें दी जाने वाली सिक्‍योरिटी में कमी लाई जा सकती है.

ज्वाइंट पुलिस कमीश्नर( क्राइम ) संतोष रस्तोगी ने कहा कि क्राइम ब्रांच ने आंकलन करने के बाद 9 लोगों की सुरक्षा हटा दी है. उन्होंने कहा कि खतरनाक गैंगस्टर्स जेल में हैं. उनके लिए जेल से किसी को फोन पर धमकी देना संभव नहीं. उन्होंने बताया कि पूरे जेल परिसर में सीसीटीवी कैमरे लगाए हैं. जेल में हाई डेंसिटी जैमर्स लगाए गए हैं. जेल के अंदर से फोन इस्तेमाल करना असंभव है. पुलिस अधिकारियों ने कहा कि सेनेगल से गैंगस्टर रवि पुजारी की गिरफ्तारी, बंटी पांडे और छोटा राजन की गिरफ्तार के बाद तिहाड़ जेल में डाले जाने के बाद शहर में शायद ही अंडरवर्ल्ड का कोई खतरा बचता है.

गैंगस्टर एजाज़ लकड़ावाला को बिहार से गिरफ्तार करने के 15 दिन बाद ही खालिद बाबू कुरैशी की सुरक्षा वापस ले ली गई. खालिद, बांद्रा के एक बिल्डर हैं, बीजेपी और महाराष्ट्र वक्फ बोर्ड का सदस्य है. क्राइम ब्रांच के अधिकारियों ने कहा कि केवल खालिद की सुरक्षा वापस नहीं ली गई बल्कि लकड़ावाला के निशाने पर रहने वाले दो और लोगों की सुरक्षा वापस ले ली गई है.

खालिद ने लकड़ावाला के खिलाफ पिछले साल नवंबर में शिकायत की थी. इसके बाद पुलिस ने बिहार से उसे धर दबोचा. लकड़ावाला को उस दौरान गिरफ्तार किया गया जब उसकी बेटी सोनिया शेख फेक पासपोर्ट पर विदेश भागने की फिराक में थी. आपको बता दें कि दाउद और छोटा राजन का करीबी, गैंगस्टर लकड़ावाला के बिहार के रास्ते नेपाल तक तार फैले थे.

खालिद ने बताया कि नवंबर में मैने लकड़ावाला के खिलाफ धमकाकर 50 लाख रुपये मांगने की शिकायत की. दिसंबर में पुलिस ने कहा कि शिकायत में मैं लकड़ावाला की बेटी का नाम भी लिखवा दूूं. ये सुनकर मैं डर गया. पुलिस ने मुझे आश्वासन दिया कि वो मेरे साथ हैं. खालिद कहते हैं कि मैं चिंतित इसलिए हूं क्योंकि गैंगस्टर जेल के अंदर से भी बाहर की दुनिया में एक्टिव रहते हैं.

क्राइम ब्रांच के अधिकारी ने बताया कि लकड़ावाला का गैंग खत्म हो गया है इसलिए सुरक्षा वापस ले ली गई है. सुरक्षा की समीक्षा करने के बाद अगर दोबारा खालिद को सुरक्षा की जरूरत पड़ी तो मुहैय्या कराई जाएगी.

ये भी पढ़ें

मध्य प्रदेश: लड़की का पीछा करने वाले को पता चला तय हो गई है शादी, रेप करके घोंट दिया गला

फर्रुखाबाद: मां को धक्के मारकर घर से निकाल चुका था सुभाष बाथम, हत्या के जुर्म में 12 साल काटी जेल