रेल मंत्री के आरोपों पर महाराष्ट्र सरकार के परिवहन मंत्री ने दिया जवाब- ट्रेनें भेज दीं लेकिन हमें वक्त नहीं दिया

रेल मंत्री पीयूष गोयल (Railways Minister Piyush Goyal) आरोप लगाया है कि महाराष्ट्र सरकार यात्रियों के बारे में जानकारी उपलब्ध नहीं करा रही है, जिसकी वजह से कई श्रमिक विशेष ट्रेनों का संचालन नहीं हो पा रहा है.
Piyush Goyal on Maharashtra trains issue, रेल मंत्री के आरोपों पर महाराष्ट्र सरकार के परिवहन मंत्री ने दिया जवाब- ट्रेनें भेज दीं लेकिन हमें वक्त नहीं दिया

महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra government) और रेल मंत्रालय के बीच विवाद कम होने का नाम नहीं ले रहा है. रेल मंत्री पीयूष गोयल (Railways Minister Piyush Goyal) ने आरोप लगाया है कि महाराष्ट्र में शासन नाम की कोई चीज नहीं रह गई है, और पूरा प्रशासनिक ढांचा चरमरा गया है.

उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि राज्य में नेतृत्व नाम की कोई चीज है ही नहीं, जिसका सीधा असर दिहाड़ी मजदूरों को उनके गृह राज्य पहुंचाने पर पड़ रहा है. उन्होंने कहा, “आज (मंगलवार) शाम छह बजे तक 145 ट्रेनों में से 85 को रवाना किया जाना था. लेकिन राज्य सरकार द्वारा यात्रियों के अरेंजमेंट नहीं किए जाने से सिर्फ 27 का ही परिचालन हो पाया है.”

रेल मंत्री ने ट्वीट कर आरोप लगाया कि राज्य सरकार यात्रियों के बारे में जानकारी नहीं उपलब्ध करा रही है, जिसकी वजह से कई श्रमिक विशेष ट्रेनों का संचालन नहीं हो पा रहा है.

महाराष्ट्र के मंत्री ने किया पलटवार

वहीं महाराष्ट्र के कैबिनेट मिनिस्टर अनिल परब ने रेल मंत्री पीयूष गोयल का जवाब देते हुए कहा है कि रेल प्रशासन जानबूझकर इस तरह की चीजें कर रहा है. हमने उनसे बंगाल के लिए पूरे समय तक 48 ट्रेनें मांगी थी लेकिन उन्होंने जानबूझकर एक ही दिन में 43 ट्रेन भेज दीं.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

परिवहन मंत्री अनिल परब ने कहा कि जो भी ट्रेनें हमें भेजी गईं उसके बारे में वक्त नहीं दिया. सबको पता है कि 25 तारीख को ईद थी पुलिसकर्मी थके हुए थे लेकिन अगले ही दिन ट्रेन का शेड्यूल बना कर हमें भेज दिया. जिसकी वजह से दिक्कत हो रही है. रेल मंत्रालय यह सब इसलिए जानबूझकर कर रहा है क्योंकि उत्तर भारत के लोग शिवसेना (Shiv Sena) की तरफ और सरकार की तरफ आकर्षित हो रहे थे.

पीयूष गोयल ने पहले किया था ये ट्वीट

इससे पहले गोयल ने ट्वीट कर कहा था, “महाराष्ट्र सरकार के अनुरोध पर हमने आज 145 श्रमिक विशेष ट्रेनों की व्यवस्था की थी. ये ट्रेने सुबह से तैयार खड़ी हैं. मैं महाराष्ट्र सरकार से अनुरोध करता हूं कि यह सुनिश्चित करने में पूर्ण सहयोग दें कि परेशान प्रवासी श्रमिक अपने घर पहुंचे और श्रमिकों को समय पर स्टेशन पहुंचाया जाए, और विलंब न करें. इससे समूचा नेटवर्क और योजना प्रभावित होगी.”

रेलवे ने कही ये बात

गौरतलब है कि इससे पहले रेलवे ने 25 मई को महाराष्ट्र से प्रवासी मजदूरों को निकालने के लिए 125 ट्रेनों की योजना तैयार की थी, लेकिन राज्य सरकार देर रात दो बजे तक सिर्फ 41 ट्रेनों के लिए ही जानकारी दे पाई थी.

रेलवे ने बताया कि 26 मई को महाराष्ट्र से जिन 145 श्रमिक ट्रेनों के संचालन की योजना बनाई गई है, उनमें 68 ट्रेनें उत्तर प्रदेश, 27 बिहार, 41 पश्चिम बंगाल और छत्तीसगढ़, राजस्थान, झारखंड, उत्तराखंड और केरल के लिए एक-एक ट्रेन और ओडिशा और तमिलनाडु के लिए दो-दो ट्रेन चलाने की योजना है.