शिवसेना का पीएम मोदी पर निशाना, सामना में लिखा- गलवान और पैंगोंग विजय दिवस भी मना लेने दो

शिवसेना (Shiv sena) ने अपने मुखपत्र सामना (Saamana) में लिखा, ''पाकिस्तान ने हिंदुस्थान की पीठ में खंजर घोंपा, यह सही है. लेकिन तत्कालीन प्रधानमंत्री वाजपेयी ने उसी खंजर से पाकिस्तानियों की आंतें बाहर निकाल ली थीं.''
shiv sena saamana target pm modi, शिवसेना का पीएम मोदी पर निशाना, सामना में लिखा- गलवान और पैंगोंग विजय दिवस भी मना लेने दो

शिवसेना (Shiv sena) ने अपने मुखपत्र सामना (Saamana) में कारगिल विजय दिवस के बहाने पीएम मोदी (PM Modi) पर निशाना साधा है. सामना के संपादकीय में लिखा है, ”पाकिस्तान ने हमारी सीमा में सीधे घुसपैठ की (जैसे अभी चीन ने की है). पाकिस्तान ने हिंदुस्थान की पीठ में खंजर घोंपा, यह सही है. लेकिन तत्कालीन प्रधानमंत्री वाजपेयी ने उसी खंजर से पाकिस्तानियों की आंतें बाहर निकाल ली थीं.”

”टेढ़ी नजर से देखने वाले को आप कब उत्तर देंगे”

सामना में लिखा, ”फिलहाल हमारे देश की ओर टेढ़ी नजर से कौन देख रहा है? टेढ़ी नजर से देखने वाले को आप कब उत्तर देंगे? प्रधानमंत्री मोदी ने तो अपने ‘मन की बात’ में चीन का नाम ही नहीं लिया. लेकिन अब गलवान घाटी में 14000 फुट की ऊंचाई पर चीन घुसा आ रहा है और वहां की स्थिति तनावपूर्ण है. हमारे 20 जवान शहीद हो गए. उनकी शहादत का आपने बदला नहीं लिया.”

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

”8 किलोमीटर जमीन कब्जे में ले ली”

सामना में लिखा, ”पेंगांग और डेपचांग से चीन अभी भी पीछे नहीं हटा है. लेकिन उस बारे में चर्चा जारी है. चीनी सेना पहले हिंदुस्थान की सीमा में घुस आई. 10 किलोमीटर घुसने के बाद चर्चा करके दो किलोमीटर पीछे चली गई. मतलब 8 किलोमीटर जमीन उसने अपने कब्जे में ले ली लेकिन दो किलोमीटर जमीन छुड़वाने का राजनीतिक आनंदोत्सव मनाया जा रहा है.”

‘गलवान’ और ‘पेंगांग’ विजय दिवस भी मना लेने दो!

सामना में लिखा, ”पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक करने के बावजूद उसकी पूंछ टेढ़ी की टेढ़ी ही है. दुष्टों का स्वभाव कुछ भी करने के बावजूद बदला नहीं जा सकता.”

सामना ने चीन की हरकतों को बताते हुए लिखा, ”इसके पहले कि ये बीमारी बढ़ जाए प्रधानमंत्री को चाहिए कि उसका ऑपरेशन कर दें. कारगिल विजय दिवस के साथ ‘गलवान’ और ‘पेंगांग’ विजय दिवस भी मना लेने दो! कारगिल विजय दिवस का यही संदेश है.”

Related Posts