उद्धव ने कहा BJP की टॉप लीडरशिप के खिलाफ संभल के दें बयान, क्या सुलझ रहा है सियासी ड्रामा?

इससे पहले सोमवार की दोपहर बीजेपी के सहयोगी दल के नेता और केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने भी शिवसेना और बीजेपी के बीच खड़ी हुई दीवार को गिराने की बात कही थी.

महाराष्ट्र में सियासी ड्रामे का अब शायद जल्द ही अंत हो सकता है. दरअसल ऐसा कहने के पीछे का कारण है शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के सुर में नर्मी का आना. सोमवार को शिवसेना प्रमुख ने अपने नेताओं को चेतावनी जारी करते हुए कहा कि वह बीजेपी की टॉप लीडरशिप के खिलाफ संभल कर बयानबाजी करे. ठाकरे का ये संदेश पार्लियामेंट्री पैनल मीटिंग के दौरान दिया गया.

इससे पहले सोमवार की दोपहर बीजेपी के सहयोगी दल के नेता और केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने भी शिवसेना और बीजेपी के बीच खड़ी हुई दीवार को गिराने की बात कही थी. अठावले ने कहा था कि उन्होंने शिवसेना के नेता संजय राउत से 3-2 फॉर्मूले को लेकर बात की है. जिस पर राउत ने कहा कि अगर बीजेपी सहमत होती है तो इसपर विचार किया जा सकता है.

वहीं शिवसेना पहले ही 170 विधायकों के समर्थन की बात कह चुकी है. जब शिवसेना के इस दावे को लेकर एनसीपी प्रमुख शरद पवार से सवाल किया गया तब उन्होंने भी सीधे कोई जवाब देने की जगह इसका उत्तर बीजेपी और शिवसेना से लेने के लिए कहा. एनसीपी अध्यक्ष ने सोमवार की दोपहर कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी से भी महाराष्ट्र की मौजूदा स्थिति को लेकर मुलाकात की थी.

इन सभी घटनाओं को महज इत्तेफाक न माना जाए तो ये संकेत देती हैं कि जल्द ही महाराष्ट्र के सियासी ड्रामे का खात्मा हो सकता है. मालूम हो कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में किसी भी दल को बहुमत नहीं मिलने के चलते अभी तक सरकार नहीं बन सकी है. वहीं राज्य में राष्ट्रपति शासन भी लागू है.

ये भी पढ़ें: सियाचिन में हिमस्खलन की चपेट में आने के बाद सेना के 4 जवानों समेत 6 की हुई मौत