पुणे की इस बाई का विजिटिंग कार्ड वायरल, देशभर से आ रहे जॉब ऑफर्स

गीता के विजिटिंग कार्ड बनवाने की कहानी अस्मिता जावडेकर ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर की थी, जिसके बाद शिंदे ने पोस्ट को अपने फेसबुक पर शेयर किया.

इन दिनों एक हाउसमेड सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बनी हुई है. ऐसा इसलिए है क्योंकि वे विजिटिंग कार्ड के जरिए काम ढूंढ रही हैं. पहले कभी भी ऐसा देखने को नहीं मिला है जब किसी हाउसमेड को काम की जरुरत हो और वह विजिटिंग कार्ड के जरिए काम की तलाश कर रही हो. यह अपने आप में बहुत ही अनोखा है.

यह मामला पुणे के बावधन इलाके का है. इस हाउसमेड का नाम गीता काले है. हाल ही में गीता को अपने काम से हाथ धोना पड़ा था, जिसके बाद वे काफी परेशान रहने लगी थीं. इस विजिटिंग कार्ड को बनवाने में उनकी मदद धनाश्री शिंदे ने की है. गीता धनाश्री के यहां काम करती हैं.

गीता के विजिटिंग कार्ड बनवाने की कहानी अस्मिता जावडेकर ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर की थी, जिसके बाद शिंदे ने पोस्ट को अपने फेसबुक पर शेयर किया.

अस्मिता ने लिखा, “धनाश्री पूरा दिन काम करने के बाद घर पहुंची तो उसने देखा कि उसकी हाउसमेड गीता काफी निराश है. कारण था उसकी नौकरी जाना. उसकी गलती नहीं थी, पर परिस्थितियां ऐसी थीं. घर में जो हर महीने 4 हजार रुपए आने थे वह नौकरी जाने के बाद नहीं आ रहे थे.”

इसके बाद अस्मिता ने लिखा, “इस सबके बाद धनाश्री का मन पसीज गया और उसने अपनी ब्रांडिंग स्किल को यूज किया. 24 घंटे के अंदर एक स्मार्ट बिजनेस कार्ड डिजाइन हो गया और 100 कार्ड प्रिंट हो गए. इसके बाद धनाश्री ने गीता को कहा कि वह सिक्यूरिटी गार्ड की मदद लेकर पड़ोस में इन कार्ड को बांट दे. किसी की मदद करने के लिए एक छोटे से कदम पर काफी अच्छी प्रतिक्रियाएं मिली.”

उन्होंने आगे लिखा, “यह यूनीक कार्ड रातोंरात न केवल इंटरनेट सेंसेशन बन गया बल्कि गीता को काम के देशभर से इतने फोन आ रहे हैं कि उनकी फोन की घंटी ही बंद नहीं हो रही है.”

 

View this post on Instagram

 

#Day66 Dhanashree Shinde & Geeta Maushi Dhanashree got back home from a long day at work and saw her house maid; Geeta Maushi visibly upset. The reason, losing a job. Not her fault but a situational issue. The bigger problem being, an income deficit, close to 4000 rupees a month! . Dhanashree’s heart went out for maushi’s plight and she decided to put her branding skills to good use. . Within twenty four hours, a smart business card was designed and 100 cards printed! Dhanashree further guided maushi to hand out the cards in their neighbourhood with the help of the society watchman. . This seemingly small step taken towards extending help catapulted into an unimaginable reaction!!! . Not only has this unique business card become an overnight internet sensation but also, Maushi’s phone just hasn’t stopped ringing! Job offers have been pouring in from every corner of India. When I spoke to Dhanashree about this episode, her exuberance got transferred to me instantly. She was like a pulsating energy bomb, a tad numbed in bits by the dizzying speed and explosion of such a simple idea, born out of good stead. . Today, when Maushi met Dhanashree, she couldn’t stop gushing!! She simply surrendered her phone to Dhanashree to manage the incessant enquires. As Dhanashree began sifting through the messages, she was awestruck! Red FM was trying to reach maushi, news channels were vying to cover her story and WhatsApp was going berserk!! . And, it all started with a little flicker in a good heart wanting to share it’s flame with another candle. . . #100humanencounters #help #hope #anideacanchangealife #powerofcommunication #businesscard #dignityoflabour #reallifeheros#aatmanstories

A post shared by Asmita Javdekar (@asmita_javdekar) on

 

ये भी पढ़ें-   92 के हुए लाल कृष्ण आडवाणी, पढ़ें रथयात्रा के दौरान कारसेवा को लेकर क्या बोले थे…

हाई कोर्ट पहुंचा वकीलों और दिल्‍ली पुलिस के बीच हिंसा का मामला, फौरन सुनवाई से इंकार