रात भर मोबाइल पर गेम खेलता रहा, सुबह उठा तो एक आंख से दिखना बंद

युवक रात भर मोबाइल पर गेम खेलता रहा. अगली सुबह जब वो उठा तो बायीं आंख से दिखना बंद हो गया.
Cell phone blindness, रात भर मोबाइल पर गेम खेलता रहा, सुबह उठा तो एक आंख से दिखना बंद

Cell phone blindness: मोबाइल पर गेम्‍स के शौकीन सावधान हो जाएं. लंबे समय तक स्‍क्रीन पर नजरें गड़ाए रखना आंखों की रोशनी तक छीन सकता है. चीन के एक शख्‍स के साथ यही हुआ. वो रात भर मोबाइल पर गेम खेलता रहा. अगली सुबह जब वो उठा तो बायीं आंख से दिखना बंद हो गया.

रात भर गेम खेलने के बाद वह थोड़ी देर के लिए सोया था. स्‍थानीय मीडिया के अनुसार, सुबह उठ उसने पांच मिनट ही गेम खेला होगा कि बायीं आंख से दिखना बंद हो गया. काफी देर बाद भी जब दिक्‍कत दूर नहीं हुई तो वह हॉस्पिटल भागा. अस्‍पताल ने लेजर सर्जरी की है. उसके महीने भर में ठीक होने की उम्‍मीद है.

क्‍या है Cell phone blindness?

बिना ब्रेक लिए लंबे समय तक गेम खेलने से उस शख्‍स की रेटिनल वेसेल्‍स चोटिल हो गई थीं. बोलचाल में Cell phone blindness कहा जाता है. डॉक्‍टर्स इसे वल्‍सल्‍वा रेटिनोपैथी कहते हैं. आमतौर पर यह आंखों पर बाहरी दबाव की वजह से होता है. पीड़‍ित व्‍यक्ति का विजन धुंधला जाता है. कुछ समय के लिए या फिर हमेशा के लिए आंखों की रोशनी तक जा सकती है.

पिछले महीने, चीन का ही एक शख्‍स ‘आई स्‍ट्रोक’ का शिकार हो गया था. लाइट बंद कर गेम्‍स खेलने की वजह से कुछ देर के लिए उसे दिखाई देना बंद हो गया था. दुनिया की करीब एक फीसदी जनसंख्‍या ‘आई स्‍ट्रोक’ की शिकार बनती है. यह तब होता है जब आर्टरीज में ब्‍लॉकेज या सिकुड़न से रेटिना तक ऑक्‍सीजन नहीं पहुंचती.

ये भी पढ़ें

फालतू के WhatsApp ग्रुप में एड किए जाने से हैं परेशान? ऐसे पाएं छुटकारा

कुछ भी खाते ही सूज जाते थे महिला के गाल, डॉक्टर्स ने की सर्जरी तो गले की नली से निकलीं 53 पथरी

आंखों की पुतली स्‍कैन करके ढूंढा लड़की का घर, फिर अश्‍लील हरकतें करना लगा लड़का, अरेस्‍ट

Related Posts