2006 में मुंबई लोकल ट्रेन में खो गया था वॉलेट, 14 साल बाद GRP ने ढूंढ कर लौटाया

GRP के एक अधिकारी ने कहा कि हेमंत पडलकर ने छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस-पनवेल लोकल ट्रेन में यात्रा करते समय अपना बटुआ खो दिया था, जिसके करीब 14 साल बाद अप्रैल 2020 में उन्हें बटुआ मिलने की सूचना दी गई.
wallet was lost in Mumbai local train in 2006, 2006 में मुंबई लोकल ट्रेन में खो गया था वॉलेट, 14 साल बाद GRP ने ढूंढ कर लौटाया

मुंबई में गवर्नमेंट रेलवे पुलिस (GRP) ने 14 साल बाद एक शख्स को उसका गुम हुआ बटुआ वापस किया, जो साल 2006 में एक लोकल ट्रेन (Local Train) में खो गया था. पुलिस ने जब उस शख्स को सूचित किया कि वो अपना बटुआ ले जाए, जिसमें 900 रुपए थे, तो वो यह सुन कर बेहद हैरान हुआ.

GRP ने 14 साल बाद फोन कर बताया

GRP के एक अधिकारी ने कहा कि हेमंत पडलकर ने छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस-पनवेल लोकल ट्रेन में यात्रा करते समय अपना बटुआ खो दिया था, जिसके करीब 14 साल बाद अप्रैल 2020 में उन्हें जीआरपी, वाशी से एक कॉल आया, जिसमें बताया गया कि उनका बटुआ मिला है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

हालांकि कोरोनावायरस (Coronavirus) लॉकडाउन के कारण वो अपना बटुआ लेने नहीं जा पाया. अनलॉक के बाद पनवेल के निवासी पडलकर हाल ही में वाशी में जीआरपी दफ्तर गए, जहां उन्हें पैसों के साथ उनका बटुआ भी लौटा दिया गया.

“बुटए में था पुराना 500 का नोट”

हेमंत पडलकर ने PTI न्यूज एजेंसी को बताया, “उस समय मेरे वॉलेट में 900 रुपए थे, जिसमें एक 500 का पुरान नोट भी था, जो नोटबंदी के दौरान चलन से बाहर कर दिया गया था. पुलिस ने स्टाम्प पेपर के काम के लिए 100 रुपये काट लिए और मुझे 300 रुपए वापस दे दिए. बाकी 500 रुपए एक्सचेंज होकर बाद में मिलेंगे.”

पाडलकर ने कहा कि वह अपने पैसे वापस पाकर खुश हैं. जीआरपी के एक अधिकारी ने कहा कि पडलकर के बटुए को चुराने वालों को कुछ समय पहले गिरफ्तार किया गया था.

500 के पुराने नोट के बदले मिलेगा नया नोट

उन्होंने कहा, “हमने आरोपी से पडलकर के बटुए को बरामद किया. हमने 300 रुपए पडलकर को दे दिए और बाकी बचे 500 रुपए करेंसी नोट के बदले उन्हें वापस कर दिए जाएंगे.”

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts