, बीवी के पीछे जासूस भेजना, समझदारी नहीं कायराना हरकत है
, बीवी के पीछे जासूस भेजना, समझदारी नहीं कायराना हरकत है

बीवी के पीछे जासूस भेजना, समझदारी नहीं कायराना हरकत है

, बीवी के पीछे जासूस भेजना, समझदारी नहीं कायराना हरकत है

ई दिल्ली: बिंदास नाम के टीवी चैनल में एक रियलिटी शो आता था, इमोशनल अत्याचार. एक समय था जब इस सीरियल को खूब पसंद किया गया. इसकी थीम थी पार्टनर लॉयल्टी टेस्ट. सीरियल में हिस्सा लेने वाला इंसान अपने पार्टनर के पीछे जासूस भेजकर यह पता लगा सकता था कि उसका साथी उसके प्रति कितना ईमानदार है.

टीवी रियलिटी शो कितना सच्चा था, पता नहीं, लेकिन असल जिंदगी में भी एक ऐसा ही वाकया सामने आया है. एक शादीशुदा जोड़ा जिनकी शादी को 11 साल बीत चुके हों, अचानक चर्चा में आता है. कारण पति का अपनी पत्नी पर शक, और इस शक के बलबूते वो अपनी ही पत्नी के पीछे तीन जासूस छोड़ देता है. यह घटना है दिल्ली की. महिला का पीछा करने वालों ने खुद कुबूला है कि उन्हें उसके पति ने हायर किया था. यह घटना पढ़ने में भले छोटी है, किन्तु शर्मनाक है.

एक महिला जब घर से अकेली ही बाहर निकले और खुद को असुरक्षित महसूस करने लगे, क्योंकि कोई उस पर हर वक़्त नजर बनाए हुए है. एक तो दिल्ली जैसा शहर जहां कभी भी गोली चल जाती है, रेप हो जाते हैं, ऐसे शहर में तीन लोग किसी महिला का पीछा कर रहे हों और इस बात का उसे पता हो, भला इससे डरावना क्या होगा.

एक लड़की होने के नाते मैं ये कह सकती हूँ कि जब वो मुसीबत में रही होगी उसे सबसे पहले अपने पति, पिता या फिर भाई याद आए होंगे, जिनसे वो मदद मांग सके. मगर जो हुआ वो तीन अनजान लोगों की निगरानी में रहने से भी ज्यादा बुरा था, ये तीनों आदमी तो उसके पति ने ही भेजे थे. मेरे हिसाब से एक सुलझा दिमाग तो ऐसे काम की गवाही नहीं देगा. जब शादी करने के फैसले में तुम साथ आए थे तो बाद में सवाल जवाब भी तो कर ही सकते थे. एक बार मान लें कि तुम्हारा शक सही था, लेकिन तुम्हारी हरकत ने तुम्हे गलत बना दिया.

तुम्हे दिक्कत है तुम अपनी बीवी से बात करो, बात नहीं बन रही तलाक ले लो, धोखा मिला तो शिकायत करो, केस लड़ो मगर जासूसी का हक तुम्हे किसने दिया? पता ही करना था तो तुम खुद जाते, मगर तुम्हें एक एजेंसी में काम करने वाले उन तीन आदमियों पर ज्यादा भरोसा था बजाय उसके, जिसके साथ तुमने 11 साल बिताए हैं. फिर जो आदमी आज जासूस भेज रहा है, कल को उसे मारने के लिए गुंडे भी भेज सकता है, और इस तरह की घटिया हरकत को तुम अगर सही मानते हो तो ये तुम्हारा कायरपना है.

, बीवी के पीछे जासूस भेजना, समझदारी नहीं कायराना हरकत है
, बीवी के पीछे जासूस भेजना, समझदारी नहीं कायराना हरकत है

Related Posts

, बीवी के पीछे जासूस भेजना, समझदारी नहीं कायराना हरकत है
, बीवी के पीछे जासूस भेजना, समझदारी नहीं कायराना हरकत है