एक बार के स्नान से तर जाती हैं सात पीढ़ियां, पढ़िए आखिर क्या है मानसरोवर के प्रवाह का तिब्बती कनेक्शन?

समुद्र-तट से 15,000 फीट ऊंचाई पर स्थित इस मानसरोवर झील की गहराई 300 फीट है. तिब्बती इसे ‘त्सो मावांग’ कहते हैं. मानव सभ्यता के इतिहास की सबसे पुरानी झील. झील की परिधि 87 किलोमीटर है. कुल 350 किलोमीटर का क्षेत्रफल है इसका. इस झील के पास से चार नदियां भी निकलती हैं

द्वितीयोनास्ति, कैलास: पर्वत एक अकेला भाग – 6

मानसरोवर पर पूड़ी और सब्जी. जबरदस्त बनारसी नाश्ता था. नाश्ते के बाद सभी मित्र सरोवर की ओर चले. किनारे पूजा-अर्चना की तैयारी थी. झील की परिधि 87 किलोमीटर है. कुल 350 किलोमीटर का क्षेत्रफल है इसका. इस झील से चार नदियां भी निकलती हैं, जिनका जिक्र हम बाद में करेंगे. हमें सरोवर की परिक्रमा करनी है. पर कैसे? पैदल तो संभव नहीं था. न ही लोगों की सेहत इजाजत दे रही थी.

तय हुआ कि ‘लैंडक्रूजर’ गाड़ी से ही परिक्रमा होगी. 90 किलोमीटर की. समुद्र-तट से 15,000 फीट ऊंचाई पर स्थित इस झील की गहराई 300 फीट है. तिब्बती इसे ‘त्सो मावांग’ कहते हैं. मानव सभ्यता के इतिहास की सबसे पुरानी झील. ऋषि दात्रेय को जब कैलास पर भगवान शंकर के दर्शन हुए तब उन्होंने शिव से पूछा, संसार का सबसे पवित्र स्थान कौन सा है? शिव ने कहा, सबसे पवित्र हिमालय है, जहां कैलास और मानसरोवर हैं. और जो मानसरोवर में स्नान करता है, उसके सभी पाप धुल जाते हैं. कैलास का ध्यान मात्र काशी की यात्रा से ज्यादा पुण्यदायक है. उसका फल अनंत है. वह धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष—चारों पुरुषार्थों का प्रदाता है.

पढ़ें, भाग1: सिर्फ शिव हैं जो मरते नहीं, आइए चलें कैलास जहां घोर नास्तिक भी जाकर होता है नतमस्तक

मानसरोवर के आकाश का रंग ऐसा नीला था जैसा नीला रंग आज तक हमने नहीं देखा था. रुई के फाहे से बने आकाश से लटकते बादल अलग-अलग आकृतियां बना रहे थे. मानसरोवर की लहरों से टकराते दूर क्षितिज पर ऐसा लग रहा था मानो अप्सराएं वहां नृत्य कर रही हों. ‘शिवपुराण’ में लिखा है कि मानसरोवर में एक बार के स्नान से सात पीढ़ियां तर जाती हैं. मुझे लगा, सात पीढ़ी को एक साथ तारने का ऐसा मौका फिर कहां मिलेगा साथ गए मित्रों में थोड़ी हिचकिचाहट जरूर थी, कुछ गड़बड़ न हो. इस भयानक ठंड में बर्फ के पानी से कहीं तबीयत न खराब हो जाए. बीमार हुए तो इस दुर्गम जगह में क्या होगा? मैंने कहा, ‘‘अगर कुछ हुआ तो हमें यहीं छोड़ देना. कोई संस्कार की भी जरूरत नहीं. मैं यहीं रहूंगा. आखिर पांडव भी तो यहीं हैं. मुक्ति की इससे बेहतर जगह क्या होगी? यही जगह तो है, जहां देवी-देवता, ऋषि-मुनि, अप्सराएं सब एक साथ रहते हैं. सिर्फ हम ही नहीं, ऐसा तिब्बती भी मानते हैं.’’

पढ़ें, भाग2: मिथ नहीं है महादेव शिव की तीसरी आंख, पढ़ें- क्या कहते हैं पौराणिक शास्त्र और आधुनिक विज्ञान

तो क्यों न फौरन डुबकी लगाई जाए. मैंने कपड़े उतार गमछा पहना, शरीर को तैयार किया. पुरखों को याद कर ठंड से लड़ने का मनोबल बढ़ाया. सरोवर को प्रणाम किया. जल का आचमन किया. मीठा अमृत जैसा स्वाद. एक पांव मानसरोवर में रखा तो करंट दिमाग तक लगा. झट से दूसरा पांव भी रखा. फिर नाक पकड़कर डुबकी लगाई. लगा कि सिर पथरा गया, हाथ-पांव अकड़ गए. दूसरी व तीसरी डुबकी से थोड़ी राहत लगी. पर हड्डियां कांप गईं. लगा कि पुरखों को तारने आया था, कहीं पुरखों में शामिल तो नहीं हो जाऊंगा.

तभी हंसों का एक जोड़ा दिखा. राजहंस यानी ‘बार हेडेड गूज’, जिन्हें ‘हिमालयन ग्रीन फ्रिंच’ भी कहते हैं. सफेद लंबी गरदन, सुनहरे पंख, भव्य उड़ान. बड़े भाग्य से हंसों के दर्शन होते हैं. पीछे मुड़ मित्रों को जब तक बताता तब तक वे ओझल हो चुके थे. कबीर याद आए—उड़ जाएगा हंस अकेला, जग दरसन का मेला. मित्रगण मानने को तैयार नहीं थे कि मैंने राजहंस देखा. खैर, बाहर निकला. कपड़े पहने. सूर्यदेव दूर तक कहीं दिख नहीं रहे थे.

पढ़ें, भाग3:  26 की जगह 5 दिनों में करने की ठानी कैलास मानसरोवर यात्रा, जाने से पहले करिए ये जरूरी तैयारियां

कैलास-दर्शन के बाद मानसरोवर-स्नान कर लगा, जीवन सफल हो गया. अब कुछ बचा नहीं है. ठंड के कारण अपने आप मुंह से महामृत्युंजय मंत्र निकल रहा था. मुझे मेरी दादी याद आ गईं, जिन्हें हम ‘दादा’ कहते थे. दादा ने ही बचपन में सबसे पहले मानसरोवर का महत्व बताया था. मैंने सूर्य को अर्घ्य दिया. दादी के नाम पर एक अंजुरी जल दिया. फिर लगा, दादी का तो तर्पण कर दिया. मेरे लिए कौन आएगा? गाइड बोला, ‘‘अपना तर्पण खुद कीजिए. लोग यहां ऐसा ही करते हैं.’’ मैंने अपना भी तर्पण किया. जल से कहा—जल, जीवन दो, मुक्ति दो. पुरखों को तारो. मन के कलुष को धो दो. ‘काट अंध उर के बंधन स्तर, बहा जननि ज्योतिर्मय निर्झर’. मानसरोवर के किनारे एक प्रार्थना-ध्वज भी बांधा. एक कैन में जल भरा दिल्ली लाने के लिए. फिर शुरू हुई पूजा. सामने कैलास, बगल में मानसरोवर. बिल्वपत्र साथ ले गया था. भांग और सुगंधि से शिव का अभिषेक किया—‘‘त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्. उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्.’’ हमारे लिए यह बहुत तृप्तिदायक अनुष्ठान था.

पढ़ें, भाग4:  मानसरोवर यात्रा का सिंहद्वार है तकलाकोट, सख्त-बेरहम और बदजुबान थे चीनी पुलिसवाले

गाड़ी में बैठ मैंने उसका हीटर चलाया. तब जाकर चेतनता वापस लौटनी शुरू हुई. अब हम गाड़ी से मानसरोवर की परिक्रमा में थे. गोल छोटे-छोटे पत्थरों पर से हमारी ‘लैंडक्रूजर’ धीरे-धीरे फिसलती चल रही थी छोटे-छोटे जल-स्रोतों को पार करते हुए. मानसरोवर का प्रवाह कभी राक्षसताल की ओर बहता है तो कभी उलटी तरफ. जिस साल इसका प्रवाह राक्षसताल की तरफ होता है, वह साल तिब्बतियों के लिए शुभ माना जाता है.

पढ़ें, भाग5:  रात 9 बजे तक रहता है मानसरोवर में उजाला, ये अमृत है तो 15 हजार फीट की ऊंचाई पर राक्षसताल विष

मानसरोवर के चारों ओर से दुनिया की चार बड़ी नदियां निकलती हैं. मानसरोवर के पश्चिम की ओर से निकलनेवाली सतलुज नदी है. तिब्बती इसे ‘लांजयेन खंबाब’ कहते हैं, जिसका मतलब हाथी का मुंह होता है. दक्षिण की ओर बहनेवाली नदी करनाली है, जिसे तिब्बती में ‘मेपचा खंबाब’ कहते हैं. यही नदी भारत में पहले सरयू और बाद में घाघरा कही जाती है. ब्रह्मपुत्र को तिब्बती ‘तमचोक खंबाब’ कहते हैं, यानी घोड़े का मुंह. यह पूर्वी छोर से निकलती है. सिंधु शेर के मुंह से निकलनेवाली नदी कही जाती है. उत्तर की तरफ से निकलने वाली ‘सिंधु’ नदी को ‘इंडस’ भी कहते हैं. जैदी तक पहुंचते-पहुंचते मानसरोवर की हमारी परिक्रमा पूरी होती है.

जारी … 45 किलोमीटर में फैला 22 हजार फीट ऊंचा कैलास, यहां हर गोंपाओं पर दिखता है चीनी आतंक का असर

Related Posts