संजय दत्त को एंटी ड्रग्स कैंपेन का अंबेसडर बनाने के बाद सलमान को सौंपें ट्रैफिक रूल्स समझाने की जिम्मेदारी!

सरकार का तर्क है कि संजय दत्त को नशे में डूबकर उस पर जीत हासिल करने का एक्सपीरियंस है.
Sanjay Dutt, संजय दत्त को एंटी ड्रग्स कैंपेन का अंबेसडर बनाने के बाद सलमान को सौंपें ट्रैफिक रूल्स समझाने की जिम्मेदारी!

एक्टर संजय दत्त जल्दी ही सरकार के ‘एंटी ड्रग्स कैंपेन’ के अंबेसडर बनाए जा सकते हैं. बता दें कि ये खबर इससे पहले पिछले साल सितंबर में और इसी साल फरवरी में आ चुकी है. समाज कल्याण मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया है कि ‘संजय दत्त आदर्श हैं, उन्होंने अपने नशे के अनुभव को बयान किया है. हमने सोचा कि हमारी युवा पीढ़ी को दत्त संदेश दे पाएंगे कि इससे दूर रहना है.’

ये सिर्फ एक खबर नहीं, कमाल की खबर है. कम से कम ये अच्छा होगा कि मुकेश हराने को अंबेसडरशिप से मुक्ति मिल जाएगी. उसकी जगह संजय दत्त आकर नशा न करने की अपील करेंगे. इससे भी अच्छा होता कि सरकार अजय देवगन को नशा मुक्ति के संदेश देने में इस्तेमाल करती. अजय देवगन पहले फ्रेम में नशे से दूर रहने की सलाह देते और अगले ही फ्रेम में विमल पान मसाला बेचने आ जाते.

Sanjay Dutt, संजय दत्त को एंटी ड्रग्स कैंपेन का अंबेसडर बनाने के बाद सलमान को सौंपें ट्रैफिक रूल्स समझाने की जिम्मेदारी!

संजय दत्त को ड्रग्स लेने और फिर उसे छोड़ने का एक्सपीरियंस है इसलिए उन्हें अंबेसडर बनाया जा रहा है. जिन्होंने कभी नशा किया ही नहीं उनको क्या पता कि नशे से क्या क्या जाता है. ये वही मसला है जैसे बंदर क्या जाने अदरक का स्वाद? संजय दत्त के कैंपेन करने से यूथ को ये भी संदेश जाएगा कि पहले इस्तेमाल करें फिर विश्वास करें. संजय दत्त की वजह से लड़के गिल्ट में नहीं जिएंगे कि हम शाम होते ही टैंकर बनने लगते हैं या फूंकने लगते हैं.

संजय दत्त को एंटी ड्रग्स कैंपेन का ब्रांड अंबेसडर बनाने के साथ ही सरकार को कुछ और कदम उठाने चाहिए. जैसे सलमान खान को ट्रैफिक नियमों का अंबेसडर बनाएं. राखी सावंत और दीपक कलाल की जोड़ी को संस्कृति का अंबेसडर बना दिया जाए. ऐसे तमाम सारे एक्टर्स और आम आदमी लोग मिल जाएंगे जिन्हें उनके एक्सपीरियंस के हिसाब से अंबेसडर बनाया जाए. सरकार से आइडिया लेकर रामदेव भी पतंजलि केश तेल का ब्रांड अंबेसडर अनुपम खेर को बना सकते हैं.

Sanjay Dutt, संजय दत्त को एंटी ड्रग्स कैंपेन का अंबेसडर बनाने के बाद सलमान को सौंपें ट्रैफिक रूल्स समझाने की जिम्मेदारी!

अगर आप सोच रहे हैं कि संजय दत्त के प्रारंभिक जीवन से प्रेरणा लेकर युवा ड्रग्स लेने लगेगा तो आप गलत सोच रहे हैं. उतना महंगा आइटम कंज्यूम करना सबके बस का नहीं है. हां, बड़े घरों की बिगड़ी औलादों पर जरूर खतरा मंडरा रहा है. ये देखना दिलचस्प होगा कि वो संजय दत्त के बुढ़ापे से सीख लेते हैं या उनकी जवानी से.

ये भी पढ़ें:

बच्चों की मौत पर ये कैसी राजनीति, क्या दिमागी संतुलन खो चुकी है आरजेडी?

IND vs PAK मैच खत्म होने के बाद दोनों टीमों के फैन्स की फेसबुक चैट!

हॉन्ग कॉन्ग और चीन के रिश्ते की पूरी कहानी जिसमें एक बिल की वजह से आई दरार

Related Posts