व्यंग्य: राहुल गांधी को पेट्रोल बम कहने वाले बारूदी बयानों के बेताज बादशाह अनिल विज

अनिल विज की बात करें तो वह हरियाणा के गृह मंत्री हैं, लेकिन सिर्फ इतना परिचय देना उनके पराक्रम के साथ अन्याय होगा. वे अपने कामों से ज्यादा बयानों की वजह से जाने जाते हैं.

हरियाणा में विवादित बयानों के बेताज बादशाह अनिल विज ने एक बार फिर कुछ बोला है और अपने बयानों के गुलदस्ते में एक नया पुष्प लगाया है. अनिल विज ने कहा कि प्रियंका और राहुल गांधी से सावधान रहने की जरूरत है क्योंकि वे लाइव पेट्रोल बम हैं. अनिल विज ने कहा कि वे जहां भी जाते हैं वहां आग भड़क जाती है, वे सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान का कारण बनते हैं.

राहुल गांधी के लिए अमेठी में हार से ज्यादा गर्व की बात ये है कि उन्हें कोई बारूद जैसा आदमी पेट्रोल बम कहे. अभी तक राहुल गांधी के विरोधियों में भी उनकी यही छवि है कि इनसे कुछ नहीं हो सकता. इनके बयान से कांग्रेस कार्यकर्ताओं में जोश आने की बजाय आलस भर जाता है. राहुल गांधी जिधर कदम रख देते हैं उधर से कांग्रेस साफ हो जाती है. ऐसी छवि के बीच अगर अनिल विज ने उन्हें पेट्रोल बम कहा है तो ये उनके लिए राहत की बात है.

ये तो हो गई राहुल गांधी की बात. अब उन्हें पेट्रोल बम कहने वाले अनिल विज की बात करें तो वह हरियाणा के गृह मंत्री हैं, लेकिन सिर्फ इतना परिचय देना उनके पराक्रम के साथ अन्याय होगा. वे अपने कामों से ज्यादा बयानों की वजह से जाने जाते हैं. उनके बयानों पर नजर डाली जाए तो पेट्रोल नहीं लेकिन छोटा-मोटा केरोसिन उनके अंदर भी दिखेगा. आइए जानते हैं उनके कुछ ऐसे ही बयानों के बारे में:

प्रियंका गांधी vs प्रियंका चोपड़ा

अनिल विज के विवादित बयानों का दायरा गांधी परिवार तक सीमित है और वो अपनी फील्ड के अलावा कहीं और नहीं खेलते. इसी महीने की शुरुआत में उन्होंने प्रियंका गांधी पर निशाना साधते हुए कहा था कि प्रियंका गांधी से ज्यादा प्रियंका चोपड़ा पॉपुलर हैं.

उनकी बात का प्रियंका गांधी ने कोई जवाब नहीं दिया. इसलिए नहीं कि अनिल विज के बयान को कोई सीरियसली नहीं लेता, बल्कि इसलिए कि प्रियंका गांधी को पता है कि वे राष्ट्रीय नेत्री हैं और प्रियंका चोपड़ा इंटरनेशनल अभिनेत्री हैं. तो जाहिर है प्रियंका चोपड़ा ज्यादा पॉपुलर होंगी.

राजीव vs राहुल

राहुल गांधी ने 3 जुलाई को ऐलान किया कि वे कांग्रेस अध्यक्ष नहीं हैं और बिना देरी किए नए अध्यक्ष का चुनाव होना चाहिए. इस पर अनिल विज ने कहा ‘यह तो उनका फैमिली ड्रामा है. राजीव गांधी ने कहा था कि जब कोई बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती हिलती है. लेकिन उनके पुत्र राहुल ने इस्तीफा दिया तो एक कुत्ता भी नहीं भौंका.’ इसी दौरान अनिल विज ने ये भी कहा कि हिंदुस्तान उम्मीद कर रहा था नानी के घर जाएगा तो बुद्धि लेकर आएगा लेकिन लगता है वहां से भी खाली हाथ आ गया.

पेट्रोल का कनस्तर

जुलाई में ही अनिल विज ने प्रियंका गांधी को एक बार फिर निशाने पर लिया. कहा ‘प्रियंका गांधी और कांग्रेसी नेताओं के हाथ में पेट्रोल का कनस्तर होता है ताकि जहां भी थोड़ा सा बवाल हो, ये आग लगा सकें.’ प्रियंका के समर्थन में कुरुक्षेत्र के कांग्रेसियों ने मुंडन करवा लिया तो अनिल विज ने कहा ‘मुंडन तो तब करवाया जाता है जब किसी का बात मरता है.’

ममता को कहा राक्षसी

फरवरी 2019 में अनिल विज अपनी गांधी परिवार वाली बाउंड्री पार कर गए थे. उन्होंने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तुलना ताड़का राक्षसी से कर दी थी. उन्होंने कहा –

‘छोटे होते थे जब रामलीला देखने जाया करते थे तो उसमें एक सीन आया करता था कि ऋषि-मुनि जब यज्ञ किया करते थे तो ताड़का आकर उसमें व्‍यवधान डाल दिया करती थी. ठीक उसी प्रकार की भूमिका ममता बनर्जी कर रही हैं. चाहे योगी आदित्‍यनाथ की रैली हो, चाहे अमित शाह यात्रा निकालना चाहते हों, उसमें रुकावट डालती हैं. कभी किसी का हेलिकॉप्‍टर रोकती हैं, इसलिए पूरी तरह से ममता बनर्जी वही कर रही हैं जो ताड़का किया करती थी.’

ये भी पढ़ेंः

कॉलम: महाराष्ट्र राज्यपाल ने कहा ‘संस्कृत के श्लोक पढ़ने से रुकेंगे रेप,’ लेकिन कैसे

व्यंग्य: आंध्र प्रदेश में होंगी तीन राजधानी, UPSC की परीक्षा देने वाले हो जाएंगे कनफ्यूज

तो क्‍या राहुल गांधी का कद सावरकर से बड़ा हो गया?