व्यंग्य: मंत्री पद से इस्तीफे के बाद बेरोजगार हुए सिद्धू क्या कपिल शर्मा के शो में वापस जाएंगे?

सिद्धू क्रिकेट से निकल चुके हैं, अब वो कमेंट्री करने भी नहीं बुलाए जा सकते. कपिल शर्मा के शो से भी बाहर आ गए हैं. बिग बॉस में जा नहीं सकते, एक बार वहां से भी निकल चुके हैं.

पूर्व क्रिकेटर, पूर्व कॉमेडी शो के जज, पूर्व भाजपाई, पूर्व मंत्री, पूर्व बिग बॉस कंटेस्टेंट नवजोत सिंह सिद्धू ने पंजाब कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया है. इस्तीफा उन्होंने 10 जून को ही दे दिया था लेकिन उसकी फोटो अब डाली है. पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से उनकी तनातनी लंबे समय से चल रही थी. मजे की बात ये है कि सिद्धू ने राहुल गांधी को इस्तीफा सौंपा जो खुद उन दिनों इस्तीफा देने की जद्दोजहद में लगे हुए थे. फिलहाल वो अमृतसर पूर्व से विधायक बने रहेंगे.

Navjot Singh Sidhu, व्यंग्य: मंत्री पद से इस्तीफे के बाद बेरोजगार हुए सिद्धू क्या कपिल शर्मा के शो में वापस जाएंगे?

वो तो अच्छा हुआ अमृतसर के बाद पूर्व लगा है, विधायक से पहले पूर्व विधायक लग जाता तो सिद्धू पूर्व विधायक हो जाते. कुल मिलाकर अब सिद्धू पूरी तरह खाली हैं. कुछ दिन से वे तीर्थ यात्रा पर निकले हुए थे. तीर्थ यात्राओं का दौर भी इंसान के जीवन में तभी आता है जब वो रिटायर फील करे. नहीं तो बीच में लोग वैष्णो देवी भी एडवेंचर के लिए जाते हैं, तीर्थ यात्रा के लिए नहीं.

2017 में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले बीजेपी छोड़कर सिद्धू कांग्रेस में आए थे. उस समय उन्हें बढ़िया फील्डर कहा जा रहा था क्योंकि पंजाब में कांग्रेस जीत गई थी और वो मंत्री बन गए थे. उस मौके पर उन्होंने सोनिया की शान में वही कसीदे पढ़े जो कभी नरेंद्र की शान में पढ़े थे. वो बहुत ही इमोशनल कर देने वाला मोमेंट था.

Navjot Singh Sidhu, व्यंग्य: मंत्री पद से इस्तीफे के बाद बेरोजगार हुए सिद्धू क्या कपिल शर्मा के शो में वापस जाएंगे?

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नवजोत सिद्धू से स्थानीय विभाग छीनकर ऊर्जा मंत्रालय थमा दिया था. इनमें से किस विभाग में ज्यादा सेवा की मलाई है वो तो हमें नहीं पता, लेकिन इस छीना झपटी से सिद्धू बहुत आहत थे. उन्होंने राहुल गांधी को चिट्ठी लिखी थी कि उनकी अगुवाई में स्थानीय निकाय विभाग बढ़िया परफार्म कर रहा है. लेकिन राष्ट्रीय कैप्टन पर लोकल कैप्टन भारी पड़ा और सिद्धू को किनारे कर दिया गया.

अब सिद्धू खाली हैं, हमारे घर परिवार वाले ऐसी स्थिति को और बेइज्जती के साथ बेरोजगारी कहते हैं. भई सिद्धू क्रिकेट से निकल चुके हैं, अब वो कमेंट्री करने भी नहीं बुलाए जा सकते. कपिल शर्मा के शो से भी बाहर आ गए हैं. जज बनकर फालतू जोक्स पर हंसने के पैसे भी मिलने से रहे. बिग बॉस में जा नहीं सकते, एक बार वहां से भी निकल चुके हैं.

Navjot Singh Sidhu, व्यंग्य: मंत्री पद से इस्तीफे के बाद बेरोजगार हुए सिद्धू क्या कपिल शर्मा के शो में वापस जाएंगे?

राजनैतिक फ्यूचर भी संकट में है. राजनैतिक विश्लेषकों का मानना है कि अब उनकी सियासी जमीन तभी बच सकती है जब वो घरवापसी कर लें. राजनीति में वैसे भी कोई पार्टी किसी का घर नहीं होती, धर्मशाली होती है. आना जाना लगा रहता है.

अब सबसे बड़ा सवाल ये है कि सिद्धू करेंगे क्या? आईफोन पर टिक टॉक वीडियोज देखकर तो टाइमपास होगा नहीं. मीडिया-सोशल मीडिया पर लाइम लाइट में बने रहने के लिए कुछ काम भी करना पड़ेगा. नहीं तो चार दिन में लोग भूल जाएंगे कि हमारे बीच ऐसा मल्टी टैलेंटेड आदमी भी था. जो एक्टर, क्रिकेटर, लाफ्टर, शायर, सभी कलाओं में निपुण था.

भले सियासत की दुनिया अंधेरे में हो लेकिन सिद्धू की शायरी पर संकट नहीं है. इस फ़न से वो नाम और दाम दोनों कमा सकते हैं. इसके लिए उन्हें अपने जैसा ही कोई अपनी पार्टी से नाराज़ आदमी खोजना चाहिए. एक मिनट, उनका शायरी का बिजनेस खड़ा करने में कुमार विश्वास मदद कर सकते हैं. बाकी सब अच्छा है, राजनीति में ये सब चलता रहता है.

नोट: ये लेखक के निजी विचार हैं और ये लेख व्यंग्य के उद्देश्य से लिखा गया है.

ये भी पढ़ें:

व्यंग्य: झाड़ू लगाएं बाद में, पहले पकड़ना तो सीख लें हेमा मालिनी!

जनसंख्या नियंत्रण कानून की राह में असली रोड़ा कौन?

Judgemental hai kya: कंगना के अंगने में मीडिया का क्या काम है?