तो इस वजह से हमेशा विपक्ष में रहना चाहते हैं राहुल गांधी!

पिछले एक महीने में दो बार मजा आने की बात राहुल गांधी कर चुके हैं. और दुनिया सोच रही है वो हार से टूट गए हैं.

बहुत से लोगों को लगता होगा कि राहुल गांधी लोकसभा चुनाव में हार से सदमें में हैं. इस बार सदमा इतना था कि छुट्टी पर भी नहीं गए. लोगों को लगा होगा कि कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा उन्होंने भारी टेंसन में आकर दिया है. असल में ऐसा कुछ नहीं है. उन्होंने अच्छे से ‘एंजॉय’ करने के लिए अपनी जिम्मेदारियों का बोझ कम किया है. अब उनको भरपूर ‘मजा आ रहा है.’

इतना मज़ा क्यूं आ रहा है

किसने हवाओं में ये भांग मिलाया? अब गाने का समय नहीं सुनने का समय है. राहुल गांधी अमेठी गए और वहां कहा- ‘नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री हैं, योगी जी मुख्यमंत्री और भाजपा की यहां सांसद हैं. हमें विपक्ष का काम करना है. आप जानते हो कि विपक्ष का काम करने में सबसे ज्यादा मजा आता है. यह काम आसान होता है.

यानी विपक्ष का काम वाकई बहुत आसान है. इसीलिए वो हमेशा विपक्ष में रहना चाहते हैं. अमेठी से पहले राहुल गांधी को पटना में मजा आया था जब वो एक पेशी पर गए थे. वहां से निकलते हुए उन्होंने मीडिया को बताया ‘आक्रमण हो रहा है, मजा आ रहा है.’

पिछले एक महीने में दो बार मजा आने की बात राहुल गांधी कर चुके हैं. और दुनिया सोच रही है वो हार से टूट गए हैं. लेकिन राहुल गांधी ने दिखा दिया है कि जीतकर हारने वाले को बाजीगर भले न कहते हों लेकिन आदमी मजे तो ले ही सकता है.

इस पर कांग्रेस और राहुल गांधी के आलोचक हो सकता है पछाड़ें खाकर गिरने लगें. लेकिन इतिहास राहुल गांधी को सदा याद रखेगा. यहां लोग एक हार के बाद टूट जाते हैं. हाईस्कूल फेल होने पर सुसाइड के तरीके तलाशने लगते हैं. वहीं राहुल गांधी हैं जो हारने के बाद मजे ले रहे हैं. अगर जीत जाते तो क्या होता, पार्लियामेंट ही जाने.

ये भी पढ़ें:

वो विधायक जो अपने काम से नहीं, Viral Video की वजह से ‘कुख्यात’ हुए!

LIVE: कर्नाटक विधानसभा के पास धारा 144 लागू, स्‍पीकर के फैसले पर टिकी कुमारस्‍वामी सरकार

‘बंटवारे की ओर बढ़ रहा देश’, जनसंख्‍या दिवस पर गिरिराज बोले- हर धर्म के लिए बने दो बच्‍चों का कानून