मोदी से संपर्क साध चुके 40 विधायकों को बचाने का ममता के पास है एक ही रास्ता!

'दीदी, आपके 40 विधायक हमारे संपर्क में हैं.' ये सिर्फ एक वाक्य नहीं था. पूरी की पूरी धमकी थी कि अमित शाह अपने अगले मिशन पर लग चुके हैं.

पीएम मोदी के विरोधी चाहे जितने ‘तेज बहादुर’ हों लेकिन असली तेज तो स्वयं मोदी जी हैं. एक दिन नॉन पॉलिटिकल इंटर्व्यू में ममता दीदी की तारीफ करके इम्प्रेस किया. दो दिन बाद धमकी दे दी कि आपके 40 विधायक हमारे संपर्क में हैं.

ये संपर्क कोई ऐसा वैसा संपर्क नहीं है. ये वही संपर्क है जो उदित राज से नहीं हो सका था. अब उदित राज को पता चल गया कि व्हाट्सऐप पर 24 घंटे ऑनलाइन रहने के बावजूद मोदी जी ने उनके मैसेज का रिप्लाई क्यों नहीं कर रहे थे. क्योंकि वो तो अपनों को छोड़कर 40 लोगों के संपर्क में थे.

Mamata Banerjee, मोदी से संपर्क साध चुके 40 विधायकों को बचाने का ममता के पास है एक ही रास्ता!

विरोधियों का कहना है ये बयान भले मोदी जी ने दिया हो लेकिन ऐसी कोई बात आते ही अमित शाह की तारीफ होने लगती है. व्हाट्सऐप ज्ञानी तुरंत जान लेते हैं कि चाणक्य अपने नए मिशन पर लग गए हैं. किसी और स्टेट में भगवा फहराने का नंबर आ गया है. ऐसा सोचना बिल्कुल गलत नहीं है, चाणक्य और अमित शाह की हेयर स्टाइल भी तो कॉमन है.

नाम न छापने की शर्त पर सूत्रों ने बताया है कि दिल्ली में अरविंद केजरीवाल मोदी-शाह को किसी भी कीमत पर क्यों हराना चाहते हैं. क्यों कांग्रेस से लेकर किम जोंग उन तक से गठबंधन कर लेना चाहते हैं. उनके कान में ये टॉप सीक्रेट किसी ने पहले से फूंक रखा होगा कि आपके भी विधायक उनके संपर्क में हैं. एक बार जिसका संपर्क अमित शाह से हो गया, उसका काम हो गया.

ये सब तो हो गई प्रॉब्लम की बात, जिसका सामना दीदी कर रही हैं. इसका समाधान क्या होगा? एक समाधान हो सकता था लेकिन दीदी ने पहले ही पत्ते खोल दिए. कहा कि हम मोदी को रसगुल्ला खिलाएंगे वो भी मिट्टी वाला. जिसमें कंकड़ होंगे और मोदी के दांत टूट जाएंगे.

यहीं सबसे बड़ी प्रॉब्लम हो गई. नरेंद्र मोदी वो आदमी हैं कि उन पर कोई कीचड़ फेंके तो उसमें भी कमल खिलाने में लग जाते हैं. उनको पता चला कि दीदी मिट्टी वाला रसगुल्ला खिलाने वाली हैं तो उन्होंने कहा “वाह सुभाष चंद्र बोस, श्यामा प्रसाद मुखर्जी की चरण रज वाला रसगुल्ला.” दीदी का प्लान फेल हो गया. अब एक मात्र तरीका ये है कि सभी विधायकों के फोन जमा करवा लें और उनके घर का  Wi Fi कनेक्शन कटवा दें.

ये भी पढ़ें:

धर्मेंद्र के परिवार को राजनीति में लाकर परिवारवाद से लड़ रही है बीजेपी

कांग्रेस के नए भस्मासुर शत्रुघ्न सिन्हा, जिस पार्टी में रहे उसकी बेइज्जती कराई

मोदी के खिलाफ चुनाव न लड़ना प्रियंका गांधी की असली बहादुरी!

‘बिना खर्च के लड़ा जा सकता है चुनाव’, चुनाव पर सबसे ज्यादा खर्च करके मोदी ने कहा