अमेरिका की तरफ से कहा गया है कि भारत और चीन के बीच चल रहे बॉर्डर विवाद (India China Clash) पर दुनिया की नजर है. भारत की तरफ से दिखाई गई कोई भी झिझक चीन के विस्तारवादी एजेंडा पर नजर रखने के प्रयासों को झटका देगा.