पाकिस्तानी टीम के चयन पर फिर उठे सवाल, पूर्व कप्तान रमीज राजा बोले-लेने होंगे कड़े फैसले

अगले साल 2021 में टी-20 विश्व कप की मेजबानी भारत (India) करने जा रहा है. अब तमाम टीम मिशन टी-20 2021 के लिए अपने टीम कॉम्बिनेशन को लेकर ‘अलर्ट’ हो गई हैं.

कोरोना काल में इंटरनेशनल क्रिकेट की वापसी हो चुकी है. हालांकि इस साल ऑस्ट्रेलिया (Australia)में होने वाला टी-20 विश्व कप (T20 World cup) टल गया. लेकिन अगले साल 2021 में टी-20 विश्व कप की मेजबानी भारत (India) करने जा रहा है. अब तमाम टीम मिशन टी-20 2021 के लिए अपने टीम कॉम्बिनेशन को लेकर ‘अलर्ट’ हो गई हैं. इंग्लैंड (England) हो या फिर ऑस्ट्रेलिया वो अपनी टीम ने कुछ नए चेहरों को जगह दे रही हैं. लेकिन पाकिस्तान टीम (Pakistan team) अब भी क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट में अनुभव को तरजीह दे रही है. ये बात पूर्व कप्तान रमीज राजा (Ramiz Raja) को नाराज कर रही है. रमीज राजा ने कहा कि ‘पाकिस्तान के सेलेक्टर्स को अपनी दोस्ती को भुलाकर सिर्फ उन्हें मौका देना होगा जो परफॉर्म करके दिखाएं.’

इमरान खान ने कर दिया था सीनियर खिलाड़ियों को बाहर

पाकिस्तान टीम इंग्लैंड दौरा खत्म कर अपने देश लौट चुकी है. पाकिस्तान को टेस्ट सीरीज में इंग्लैंड से हार मिली और टी-20 सीरीज 1-1 से ड्रॉ हुई थी. लेकिन इंग्लैंड दौरे पर जीत का सपना पाकिस्तान का अधूरा ही रहा. अब अगले साल होने वाले टी-20 विश्व कप को लेकर पाकिस्तान की रणनीति क्या होनी चाहिए इस पर रमीज राजा ने अपनी बात रखी.

उन्होंने कहा कि  ‘मुझे लगता है सबसे पहले सही दिशा में बढ़ने की जरूरत है, हमें कड़े फैसले लेने होंगे. मुझे याद है कि जब इमरान खान कप्तान बने थे तब उनके आस-पास ज्यादातर सीनियर खिलाड़ियों का घेरा बना हुआ था. मैं किसी का नाम नहीं लूंगा, लेकिन 5-6 ऐसे खिलाड़ी थे जो एक या दो साल और खेल सकते थे. उन्होंने सभी को बाहर कर सिर्फ जावेद मियांदाद को टीम में बरकरार रखा था. और एक युवा टीम बनाई थी.

1992 विश्व कप में हमारी टीम एक युवा टीम थी. आपको सेलेक्शन में कड़े फैसले लेने होंगे और सही दिशा में देखना होगा. आपको ये बात सभी को बतानी होगी कि आप युवा खिलाड़ियों को मौका देंगे, बेशक आप शुरूआत में अच्छे परिणाम हासिल ना कर पाएं.

दूसरी बात ये है कि आपको दोस्ती को किनारे करना होगा, उनको खासतौर पर जिनके साथ आप खेले हैं. सेलेक्शन सिर्फ प्रदर्शन पर आधारित होना चाहिए. मुझे कई बार लगता है कि हम सिर्फ मौजूदा हालात में जीत और हार के बारे में सोचते हैं ना कि भविष्य पर ध्यान देते हैं.’

‘करियर के आखिरी दौर में हैं मोहम्मद हफीज’

पाकिस्तान टीम के हेड कोच और चीफ सेलेक्टर मिस्बाह उल हक हैं. वो शोएब मलिक और मोहम्मद हफीज को मौका दे रहे हैं. इसी वजह से रमीज राजा ने सीनियर खिलाड़िय़ों को लेकर सेलेक्टर्स पर तंज कसा. उन्होंने कहा कि  ‘मोहम्मद हफीज ने शानदार प्रदर्शन किया. मैं कहूंगा कि उनका अच्छा वक्त चल रहा है. अगर वो इसी तरह से पाकिस्तान के लिए प्रदर्शन करते रहे तो किसी को कोई आपत्ति नहीं होगी. लेकिन उनपर दबाव बना रहेगा और अगर हमने उनका विकल्प नहीं ढूंढा तो आप फिर युवाओं को मौका देने में कंजूसी करते हुए नजर आओगे.’ मोहम्मद हफीज ने इंग्लैंड के खिलाफ टी-20 सीरीज में शानदार प्रदर्शन किया था. और वो मैन ऑफ द सीरीज रहे थे.

Related Posts