तीन रेलवे अफसरों को 92 किमी साथ ले गए यात्री, कोच का AC खराब होने पर दिखाई दबंगई

यात्री जिद पर अड़ गए थे. उनका कहना था कि बैटरी बदलने के बाद भी एसी नहीं चला तो आगे कि क्या गारंटी.
Railway, तीन रेलवे अफसरों को 92 किमी साथ ले गए यात्री, कोच का AC खराब होने पर दिखाई दबंगई

सूरत: जोधपुर से बेंगलुरू जाने वाली 16507 जोधपुर-बेंगलुरू एक्सप्रेस में यात्रियों की दबंगई का मामला सामने आया है. शनिवार को यात्रा के दौरान एक कोच का एसी अचानक से खराब हो गया. गर्मी से परेशान यात्रियों ने इस पर हंगामा कर दिया. रेलवे प्रशासन से इस खराबी की शिकायत की गई. इस पर दो बार बैटरी बदली गई.

जिद पर अड़ गए थे यात्री
इसके बावजूद भी यात्रियों को तसल्ली नहीं हुई. यात्री जिद पर अड़ गए. उनका कहना था कि बैटरी बदलने के बाद भी एसी नहीं चला तो आगे कि क्या गारंटी. ऐसे में यात्रियों ने तीन अधिकारियों को आगे की यात्रा साथ करने के लिए मजबूर कर दिया. अधिकारियों को मजबूरन उनके साथ यात्रा करनी पड़ी.

अधिकारियों ने किया 92 किमी सफर
कुछ समय तक यात्रा करने के बाद कूलिंग ठीक हो गई. अब यात्री अधिकारियों को छोड़ने के लिए राजी हो गए. लेकिन तब तक ट्रेन 92 किलोमीटर का सफर तय कर चुकी थी. सूरत के स्टेशन निदेशक सीआर गरुडा, मुख्य वाणिज्य निरीक्षक गणेश जाधव, स्टेशन सुप्रीटेंडेंट सीएम खटीक और आरपीएफ के एसआइपीएफ को बी 2 कोच में यात्रियों के साथ बैठना पड़ा था.

सूरत स्टेशन निदेशक का बयान
सूरत स्टेशन के निदेशक सीआर गरूड़ा ने इस घटना पर बयान दिया है. उन्होंने कहा कि हमने यात्रियों की सुविधानुसार फैसला लिया. किसी खराबी के चलते एसी काम नहीं कर रही थी. यात्रियों ने साथ चलने की मांग की तो मैंने दो अफसरों के साथ उनकी तसल्ली होने तक यात्रा की.

ये भी पढ़ें-

मेट्रो-DTC बसों में मुफ्त यात्रा का तोहफा, 64 लाख महिला वोटर्स पर CM केजरीवाल की नजर

इलाज के लिए विदेश जा सकेंगे रॉबर्ट वाड्रा, इन शर्तों के साथ अदालत ने दी इजाजत

मुजफ्फरपुर शेल्‍टर होम केस की जांच के लिए CBI ने छह महीने मांगे, SC ने दिए सिर्फ तीन

Related Posts