“अरुणाचल, मणिपुर, मध्य प्रदेश, गोवा में जो किया वो राजस्थान में नहीं होगा”, बीजेपी पर बरसे गहलोत

गहलोत ने सदन में विपक्षी दलों को चेतावनी देते हुए कहा कि आप पूरी कोशिश कर रहे हैं राजस्थान सरकार गिराने की और मैं किसी भी कीमत पर राजस्थान सरकार गिरने नहीं दूंगा.

Ashok Gehlot in Rajasthan Assembly, “अरुणाचल, मणिपुर, मध्य प्रदेश, गोवा में जो किया वो राजस्थान में नहीं होगा”, बीजेपी पर बरसे गहलोत

पिछले एक महीने से राजस्थान की सियासत में चल रही उठापटक, आखिरकार सोमवार को खत्म हो गई, जब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधानसभा के विशेष सत्र में बहुमत साबित किया. इस दौरान गहलोत ने साफ तौर पर कहा कि कोई कितना भी प्रयास कर ले वो किसी भी कीमत पर सरकार नहीं गिरने देंगे.

इस दौरान गहलोत ने बीजेपी पर हमलावर होते हुए कहा कि देश जानता है कि आपने अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, मध्य प्रदेश, गोवा में क्या किया, लेकिन आपके इरादे यहां (राजस्थान) कामयाब नहीं हो सकेंगे. गहलोत ने विपक्षी दल बीजेपी के बड़े नेताओं और नेता प्रतिपक्ष से कहा कि देशभर में लोकतंत्र खतरे में है, आपको इस बात से चिंतित होना चाहिए.

मैं सरकार नहीं गिरने दूंगा

इसी के साथ गहलोत ने सदन में विपक्षी दलों को चेतावनी देते हुए कहा कि आप पूरी कोशिश कर रहे हैं राजस्थान सरकार गिराने की और मैं किसी भी कीमत पर राजस्थान सरकार गिरने नहीं दूंगा. उन्होंने बीजेपी की कांग्रेस मुक्त भारत मुहिम पर भी हमला बोलते हुए कहा कि आपका सपना है कि कांग्रेस मुक्त भारत किया जाए, लेकिन उसके पहले कांग्रेस का इतिहास पढ़ लो. हमने आजादी के लिए वर्षों जेल में काटे हैं और संघर्ष किया है, आपकी तो एक उंगली भी नहीं कटी.

राजस्थान के सियासी घटनाक्रम के दौरान गवर्नर की भूमिका पर भी अशोक गहलोत ने बीजेपी को घेरा. उन्होंने कहा कि यह एक आम प्रक्रिया है कि कैबिनेट विधानसभा सत्र बुलाने का प्रस्ताव गवर्नर को भेजती है और गवर्नर ऑफिस में फाइल जाती है और हस्ताक्षर के बाद वापस आ जाती है, लेकिन इस बार तीन-तीन बार फाइल वापस आई. गहलोत ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि आपके कारण इतनी अच्छी छवि वाले राज्यपाल की भी छवि खराब हुई.

कोरोना से जंग में पक्ष-विपक्ष दोनों ने किया अच्छा काम

गहलोत ने राजस्थान की कोरोनावायरस से लड़ाई की भी प्रशंसा की. इस मुद्दे को लेकर उन्होंने कहा कि राजस्थान में पक्ष और विपक्ष दोनों ने ही कोरोना से लड़ाई में अच्छा काम किया है. इसी के कारण राजस्थान में कोरोना से होने वाली मौतों का आंकड़ा अन्य राज्यों से कम है. इसी के साथ उन्होंने कोरोना से जंग के लिए भीलवाड़ा मॉडल का भी उदाहरण दिया.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधानसभा में सत्र के दौरान बीजेपी पर हमला तो बोला, इसी के साथ उन्होंने कहा कि नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद्र कटारिया इस षड्यंत्र में केंद्रीय नेतृत्व की चाल से अंजान थे. उन्होंने कहा कि अगर केंद्रीय नेतृत्व की प्लानिंग के बारे में तो नेता प्रतिपक्ष को पता भी नहीं था और अगर पता है तो ये भी बराबर के ही अपराधी है. गहलोत ने कहा कि उन्होंने पिछले एक महीने में नेता प्रतिपक्ष का अलग ही रूप देखा.

SOG और फोन टैपिंग पर भी दी सफाई

SOG मामले पर गहलोत ने कहा कि हम खुद केंद्र पर ED और CBI के गलत इस्तेमाल का आरोप लगाते हैं तो हम SOG का गलत इस्तेमाल कैसे कर सकते हैं. उन्होंने साफ किया कि खरीद-फरोख्त के मामले पर SOG का नोटिस सभी संभावित गवाहों को भी गया था, लेकिन आपने (BJP) इस मामले को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया. फोन टैपिंग के मामले पर भी गहलोत ने कहा कि ये राजस्थान की परंपरा नहीं है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

Related Posts