Rajasthan: BSP विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने पर BJP MLA ने की हाईकोर्ट में दूसरी याचिका दायर

सोमवार दोपहर के करीब मदनलाल दिलावर (Madanlal Dilawar) ने विधानसभा सचिव पीके माथुर (PK Mathur) के कार्यालय के बाहर धरना दिया. उन्‍होंने बाद में कहा, "सचिव ने मुझे बताया कि मेरी याचिका खारिज कर दी गई.''
bjp mla filed second petition in rajastha high court, Rajasthan: BSP विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने पर BJP MLA ने की हाईकोर्ट में दूसरी याचिका दायर

राजस्थान BSP के कांग्रेस (Congress) में विलय के मामले में राजस्थान हाईकोर्ट के BJP विधायक मदनलाल दिलावर (Madanlal Dilawar) की याचिका खारिज करने के एक दिन बाद मंगलवार को उन्होंने हाईकोर्ट में दूसरी याचिका दायर की. दिलावर ने राजस्थान विधानसभा (Rajasthan Assembly) अध्यक्ष के 24 जुलाई के फैसले को चुनौती दी है, जिसमें दलबदल विरोधी कानून के तहत BSP विधायकों को अयोग्य घोषित करने की मांग वाली उनकी याचिका खारिज कर दी गई.

पिछले साल BSP के 6 MLAs कांग्रेस में हुए थे शामिल

दिलावर ने अपनी पहली याचिका में आरोप लगाया था कि BSP विधायकों के दलबदल के संबंध में मार्च में उनकी शिकायत के बाद भी अध्यक्ष सी.पी. जोशी (C.P. Joshi) ने पिछले कई महीनों में कोई कार्रवाई नहीं की है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

सितंबर 2019 में BSP के छह विधायक संदीप यादव, वाजिब अली, दीपचंद खेड़िया, लखन मीणा, राजेंद्र गुढ़ा और जोगिंदर सिंह अवाना कांग्रेस में शामिल हो गए थे और हाल ही में राज्यसभा चुनाव के दौरान भी उन्होंने कांग्रेस का समर्थन किया था.

दिलावर ने इस साल मार्च में विधानसभा अध्यक्ष को इस मामले में एक शिकायत सौंपी थी, जिस पर 24 जुलाई तक कोई संज्ञान नहीं लिया गया था.

विधानसभा सचिव के कार्यालय के बाहर दिया था धरना

सोमवार दोपहर के करीब, दिलावर ने विधानसभा सचिव पी. के.माथुर (PK Mathur) के कार्यालय के बाहर धरना दिया. दिलावर ने बाद में कहा, “सचिव ने मुझे बताया कि मेरी याचिका खारिज कर दी गई. उन्होंने मुझे बताया कि ई-मेल पर एक बड़ा आदेश दिया जाएगा. मैं इसका इंतजार कर रहा हूं.”

इस बीच न्यायमूर्ति महेंद्र कुमार गोयल की एकल पीठ ने सोमवार को दिलावर की याचिका को खारिज कर दिया. एडिशनल अटॉर्नी जनरल आर.पी.सिंह ने कोर्ट को बताया कि शिकायत पर पहले ही 24 जुलाई को विधानसभा अध्यक्ष फैसला कर चुके हैं, जिसके बाद कोर्ट ने दिलावर की याचिका खारिज कर दी. वकील हरीश साल्वे ने दिलावर की ओर से पैरवी की.

दिलावर ने कोर्ट को लेकर की यह शिकायत

दिलावर ने कहा, “हमने अदालत में नई याचिका दायर की है कि यह विलय गलत है. स्पीकर ने 130 दिनों के बाद भी मेरी याचिका का संज्ञान नहीं लिया. हालांकि, कांग्रेस ने महेश जोशी के व्हिप (लिखित आदेश) के संबंध में उन्होंने तुरंत कदम उठाया, जिन्होंने 19 बागी विधायकों के खिलाफ शिकायत की थी. मैंने 18 जुलाई को विनम्रता के साथ स्पीकर से अपनी याचिका पर संज्ञान लेने की अपील की थी. हालांकि, मुझे अपना पक्ष रखने की अनुमति दिए बिना, उन्होंने मेरी याचिका खारिज कर दी.”

उन्होंने कहा, “जब मैं आदेश की कॉपी मांगता रहा, यह मुझे नहीं दी गई, लेकिन सीधे हाईकोर्ट में पेश की गई और उसी आधार पर कोर्ट में मेरी याचिका खारिज कर दी गई.” (IANS)

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

Related Posts