राजस्थान में सियासी घमासान के बाद शुरू हुई ‘बुक पॉलिटिक्स’, सचिवालय के कमरे में बंद ये किताबें

राजस्थान सरकार (Rajasthan Government) ने अपनी सफलता बताने के लिए हजारों बुक छपवाईं. इस बुक के अंदर डिप्टी सीएम पद से हटाए गए सचिन पायलट (Sachin Pilot) की फोटो भी छपी है.
rajasthan politics, राजस्थान में सियासी घमासान के बाद शुरू हुई ‘बुक पॉलिटिक्स’, सचिवालय के कमरे में बंद ये किताबें

आपने अक्सर राजस्थान की सियासत में बीजेपी और कांग्रेस में ‘बुक पॉलिटिक्स’ विवाद के बारे में सुना होगा. वहीं अब राजस्थान के सियासी तूफान के बीच में बुक विवाद शुरू हो गया है.

दरअसल, राजस्थान के सचिवालय में हजारों फ्रेश किताबें डंप कर दी गई हैं. राजस्थान सरकार ने अपनी सफलता बताने के लिए हजारों बुक छपवाईं लेकिन इस बुक के अंदर डिप्टी सीएम पद से हटाए गए सचिन पायलट की फोटो छप गई है.

“स्मारिका 2020” में मुख्यमंत्री समेत कई मंत्रियों, जनप्रतिनिधियों के साथ बड़ी संख्या में सरकारी विज्ञापन भी प्रकाशित हुए हैं. यदि किताबों का वितरण नहीं हुआ तो सरकार को लाखों का चूना लगना तय है.

सियासी भूचाल के बीच सचिवालय में किताबों परलगा पहरा

सियासत की कीमत किस तरह भोली-भाली जनता को चुकानी पड़ती है, उसकी एक तस्वीर राजस्थान में सामने आई, जहां पर सरकार की सफलता बताने वाली बुक कुछ दिनों पहले छपकर आई. लेकिन अब किताबों के बंडलों को सचिवालय के एक कमरें में बंद कर पहरा लगा दिया गया है. सूत्र से मिले जानकारी के मुताबिक इस स्मारिका में सचिन पायलट का फोटो छपा है.

स्मारिका के लिए क्या था सरकार का प्लान?

दरअसल, ये सभी हजारों किताबें सरकारी विभागों, विधायकों, अफसरों, सभी मंत्रियों, प्रदेश के सभी सार्वजनिक पुस्तकालयों में वितरित करने का प्लान था. इसके अंदर गहलोत सरकार की अब तक उपलब्धियों को बताया गया है.

किताब में सिर्फ एक जगह पर सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री बताया गया है. किताबों का वितरण अब कैसे और कब होगा सचिवालय में कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं है. राजस्थान के सचिवालय में किताबों की निगारानी कर रहे अफसरों ने कहा कि अगले आदेश के बाद ही कुछ होगा.

कई सवाल हो रहे खड़े

हालांकि सूत्र ये भी बता रहे हैं कि जब राजस्थान का सियासी घमासान शुरू हुआ था तब ये स्मारिका का एक लॉट छप कर आ गया था. जब सचिन पायलट उपमुख्यमंत्री थे. लेकिन सवाल ये जब एक लॉट छप कर आ गया तो स्मारिका का वितरण क्यों नहीं किया गया?

क्या सचिन पायलट की फोटो किताब से हटेगी? क्या किताबें रद्दी हो जाएंगी? क्या किताबें वितरित होंगी? किसके आदेश पर हजारों किताबें डंप हुई? ऐसे कई सवाल है जिनके जवाब अभी तक नहीं मिले हैं. खैर जो भी हो “बुक पॉलिटिक्स” का नया चैप्टर अब खुल गया है. विधानसभा सत्र शुरू होने से पहले इस पर घमासान होना तय है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts