एक तरफ मन रहा था नए साल का जश्‍न, दूसरी तरफ सरहद पर डटे थे जवान

टीवी9 भारतवर्ष 31 दिसंबर को सरहद पर पहुंचा और यह जाना कि माईनस डिग्री तापमान में भीषण सर्दी के बावजूद मरुस्थल में सुरक्षा करना जवानों के लिए कितना कठिन होता है.

जब पूरा देश नववर्ष का जश्न मना रहा था,उस समय भी हमारे सीमा सुरक्षा बल की पहरी भी हमेशा सरहद पर मुस्तेद रहते है. नववर्ष के मौके पर टीवी9 भारतवर्ष ने 24 घंटे तक भारत-पाक इंटरनेशनल बाड़मेर के मुनाबाब बॉर्डर पर रही. इस जगह पर इन दिनों काफी तनाव चल रहा है. दरअसल थार एक्सप्रेस बंद हो गई है.

टीवी9 भारतवर्ष ग्राउंड जीरो पर पहुंचा और जानने की कोशिश की थार के मरुस्थल में सुरक्षा करना कितना मुश्किल होता है. माईनस डिग्री तापमान में भीषण सर्दी के बावजूद पेट्रोलिंग करना कितना कठिन होता है.

व्हीकल पेट्रोलिंग के बाद जब हमारे सवांददाता ने कैमल पेट्रोलिंग के बारे में जानने के लिए, जवान के साथ ऊंट पर बैठकर पेट्रोलिंग की. BSF के एक जवान ने बताया जैसे-जैसे सर्दियों के दिनों में ऊंट गर्म होता है. कई हादसे होते रहते हैं. कई बार तो ऊंट हैंडलर को काट देता है.

हालांकि ये ऊंट पूरे ट्रेंड होते हैं, लेकिन सर्दी के मौसम में अक्सर इस तरह के हादसे होते रहते हैं. संवाददाता ने जाना कि कैमल पेट्रोलिंग बड़ी रिस्की होती है, लेकिन देश और सरहद की रक्षा के जवान कैमल पेट्रोलिंग करते हैं.

ये भी पढ़ें-

भारत को मिला तीनों सेनाओं का ‘सुपर बॉस’, पहले CDS जनरल रावत बोले- हम राजनीति से दूर ही रहते हैं

देश के दामन पर कोई आंच नहीं आने देंगे, सेनाएं हर चुनौती के लिए हमेशा तैयार : आर्मी चीफ नरवणे