Rajasthan: पार्टी छोड़ चुके विधायकों को BSP की व्हिप, कहा- फ्लोर टेस्ट में कांग्रेस के खिलाफ करें वोट

ये 6 विधायक पहले ही BSP छोड़ कर कांग्रेस (Congress) में शामिल हो चके हैं. इसके लिए भाजपा विधायक मदन दिलावर ने पिछले 4 महीने से विधानसभा स्पीकर के पास इन पर कार्रवाई करने के लिए शिकायत दी हुई है.

BSP Chief Mayawati

राजस्थान (Rajasthan) के राज्यपाल कलराज मिश्र (Kalraj Mishr) ने अभी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) के विधानसभा सत्र बुलाने के प्रस्ताव पर कोई फैसला भी नहीं लिया लेकिन उससे पहले ही राजनीतिक गलियारों में एक हलचल से मच गई है. ऐसा इसलिए क्योंकि बहुजन समाज पार्टी (BSP) ने अपने उन 6 विधायकों को व्हिप जारी कर फ्लोर टेस्ट में कांग्रसे (Congress) के खिलाफ वोट करने को कहा है. जो पहले ही पार्टी छोड़ कर कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

ANI न्यूज एजेंसी के मुताबिक, बसपा ने अपने 6 विधायकों- आर गुढ़ा, लाखन सिंह, दीप चंद, जेएस अवाना, संदीप कुमार और वाजीब अली, जो राजस्थान विधानसभा के लिए चुने गए हैं, उन्हें विधानसभा सत्र में किसी भी नो कन्फर्मेशन मोशन या किसी भी कार्यवाही में कांग्रेस के खिलाफ वोट देने के निर्देश दिए है.

“नोटिस का उल्लंघन होने पर होगी कार्रवाई”

BSP के जनरल सेक्रेटरी एससी मिश्रा ने कहा, “6 विधायकों को अलग-अलग और साथ ही सामूहिक रूप से नोटिस जारी किए गए हैं, जिसमें कहा गया है कि चूंकि बसपा राष्ट्रीय पार्टी है, इसलिए 6 विधायकों का राज्य स्तर पर विलय नहीं हो सकता है, जब तक कि राष्ट्रीय स्तर पर बसपा का विलय नहीं होता है. यदि वे इसका उल्लंघन करते हैं, तो उन्हें अयोग्य घोषित किया जाएगा.”

मिश्रा ने कहा कि हमने पहले भी राज्यसभा चुनावों के दौरान चुनाव आयोग को लिखा था और हमने हर चीज का उल्लेख किया था, लेकिन उन्होंने कहा कि वे तकनीकी आधार पर इसमें कुछ नहीं कर सकते.

पहले ही कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं बसपा विधायक 

दरअसल यह 6 विधायक पहले ही BSP छोड़ कर कांग्रेस में शामिल हो चके हैं. इसके लिए भाजपा विधायक मदन दिलावर ने पिछले 4 महीने से विधानसभा स्पीकर के पास सभी छह विधायकों के कांग्रेस शामिल होने को गैर-संवैधानिक बताते हुए कार्रवाई के लिए लेटर दिया हुआ है. मगर अब तक स्पीकर सीपी जोशी ने इन विधायकों पर कोई कार्रवाई नहीं की है.

सीएम गहलोत राज्यपाल को भेजा सत्र बुलाने का प्रस्ताव

बता दें कि राजस्थान (Rajasthan) के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने 31 जुलाई से राज्य विधानसभा सत्र (Assembly Session) का विशेष सत्र बुलाने के लिए राज्यपाल कलराज मिश्र (Kalraj Mishr) को एक नया प्रस्ताव पेश किया है. साथ ही इस प्रस्ताव में सत्र का एजेंडा बदलकर अब कोरोनोवायरस (Coronavirus) कर दिया गया है. इसमें फ्लोर टेस्ट का कोई जिक्र नहीं है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts