पायलट, गहलोत, कटारिया, राठौड़… पढ़ें राजस्‍थान के सियासी ड्रामे के The End की पूरी कहानी

शुक्रवार को विधानसभा में बहस के दौरान स्पीकर जोशी ने कई बार प्रतिपक्ष के सदस्यों और मंत्रियों को जोरदार तरीके से फटकार लगाई. विश्वास मत के दौरान सदन में 200 में से 199 विधायक मौजूद रहे.
rajasthan assembly session, पायलट, गहलोत, कटारिया, राठौड़… पढ़ें राजस्‍थान के सियासी ड्रामे के The End की पूरी कहानी

पिछले एक महीने से राजस्थान (Rajasthan) की सियासत में चल रही उठापटक, आखिरकार सोमवार को खत्म हो गई, जब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधानसभा के विशेष सत्र में बहुमत साबित किया.

लेकिन बॉडीलैंग्वेज से पायलट गुट और गहलोत में अब भी टकराव जारी है. सदन में भाजपा नेताओं पर सीएम गहलोत जमकर बरसे. वहीं स्पीकर सीपी जोशी ने सख्त रवैया दिखाया और मंत्रियों को भी फटकारा. बिग बॉस के नाटक की तरह राजस्थान में सियासी घटनाक्रम की Happy Ending नजर आई.

बीच-बीच में होता रहा हंगामा

संसदीय कार्यमंत्री शांतिकुमार धारीवाल ने विधानसभा में दोपहर एक बजे गहलोत मंत्रिपरिषद के विश्वास का प्रस्ताव रखा जिसे साढ़े चार घंटे की बहस के बाद ध्वनिमत से पारित कर दिया गया.

भाजपा ने विश्वास प्रस्ताव का विरोध किया. इससे पहले विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव पर हुई चर्चा के दौरान आपसी टीका-टिप्पणी को लेकर बीच-बीच में हंगामा भी होता रहा. लेकिन विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी के सख्त रवैये के चलते मामला बिगड़ नहीं सका.

199 विधायक मौजूद रहे

बहस के दौरान स्पीकर जोशी ने कई बार प्रतिपक्ष के सदस्यों और मंत्रियों को जोरदार तरीके से फटकार भी लगाई. विश्वास मत के दौरान सदन में 200 में से 199 विधायक मौजूद रहे.

मंत्री भंवरलाल मेघवाल अस्वस्थ होने के कारण विधानसभा नहीं आए. विश्वासमत के दौरान राज्यपाल दीर्घा में कांग्रेस राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाल,अविनाश पाण्डे और विवेक बंसल भी मौजूद रहे.

अशोक गहलोत ने भाजपा नेताओं पर साधा निशाना

विश्वासमत पर चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भाजपा नेताओं पर जमकर हमला बोला. गहलोत ने कहा कि अमित शाह यह तय करके बैठे है कि राजस्थान सरकार को गिराना है. वह  भी यह तय करके बैठे है कि किसी भी हाल में सरकार गिरने नहीं देंगे.

मुख्यमंत्री ने उनकी सरकार गिराने के षड्यंत्र में शाह के अलावा भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया,राजेन्द्र राठौड़ और केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत का नाम लेकर कई बार सीधा हमला भी बोला.

वहीं उन्होंने भाजपा विधायक कैलाश मेघवाल की तारीफ भी की. चर्चा के दौरान नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया और उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने भी सरकार पर आपसी विवाद को लेकर तंज कसे. विश्वासमत पारित होने के बाद विधानसभा की कार्यवाही 21 अगस्त तक के लिए स्थगित कर दी गई.

झगड़ा आपका भाजपा के सिर पर क्यों फोड़ रहे हो – कटारिया

नेता प्रतिपक्ष गुलाब सिंह कटारिया ने विश्वास मत प्रस्ताव पर बोलते हुए कहा जिस तरह से अंतर कलह के चलते सरकार 34 दिन तक बाड़े बंदी में रही इसका खामियाजा प्रदेश की जनता को भुगतना पड़ा है जिस तरीके से मुख्यमंत्री ने अपने ही उपमुख्यमंत्री को लेकर बयानबाजी की उससे लगता है कि आगे सरकार कैसे चल पाएगी?

ईडी, सीबीआई और इनकम टैक्स के दुरुपयोग का हवाला देने वाली सरकार यह तो बताए कि एसओजी और ऐसी भी किस तरह से काम कर रही हैं. इन एजेंसियों को किस तरह से इस्तेमाल किया जा रहा है. पहले एफआईआर दर्ज होती है और फिर बाद में उसका क्या असर होता है यह सब ने देखा है. कटारिया ने कहा कि जो समझौता कांग्रेस में अब हुआ है वह पहले क्यों नहीं किया गया.

संसदीय कार्य मंत्री बोले- न तो शाह की चली, न तानाशाह की चली

बहस के दौरान संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने कहा, ‘राजस्थान में न तो किसी शाह की चली, न तानाशाह की. भाजपा कहती है कि कांग्रेस ने विधायकों की बाड़ेबंदी की, अगर ये बाड़ेबंदी है तो आपने जो विधायक गुजरात भेजे थे, वे क्या रासलीला रचाने के लिए गए थे?

महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए भाजपा ने आधी रात को राष्ट्रपति को जगा दिया. जिस दिन फडणवीस की सरकार गिरी, उस दिन मोटा भाई और छोटा भाई को इस्तीफा दे देना चाहिए था.

बीजेपी की तिगड़ी मुख्यमंत्री बनने का सपना देख रही है, संजीवनी बूटी खाकर इथोपिया में हजारों एकड़ जमीन के मालिक मुख्यमंत्री बनने का ख्वाब देख रहे हैं, छोटा भाई और मोटा भाई ने विधायकों की मिनिमम स्पोर्ट प्राइस बढ़ा दी. खरीद फरोख्त से सरकार गिराने की कोशिश हुई.

गलत तरीके से टेलीफोन टेप किए गए: राठौड़

विश्वास मत पर बहस के दौरान उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि आईपीएस अफसर विधायकों के मन की टोह लेते दिखे, एसओजी, एटीएस, एसीबी जैसी एजेंसियों का भारी दुरूपयोग किया गया, गलत तरीके से टेलीफोन टेप किए गए, डीजीपी की भूमिका भी सही नहीं रही.

जिनके हस्ताक्षरों से टिकट लेकर कांग्रेस विधायक बने, वे आज क्या महसूस कर रहे हैं. साढ़े छह साल तक नकारा निकम्मा शब्द छिपा रहा , एलिफेंट ट्रेडिंग करने वाली सरकार हॉर्स ट्रेडिंग की बात कर रही है.

हॉर्स ट्रेडिंग की बात करते हो, आप तो पूरे हाथी गटक गए: पूनिया

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया बोले, ’35 दिन में 5 फिल्में रिलीज हुईं. बाड़ेबंदी 1,2,3,4, 5…आखिरी बाड़ेबंदी में फेयरमोंट की इटेलियन डिश और क्रिकेट चल रहा था. इस बीच कुछ पीड़ितों की चीखें भी थीं. राजस्थान का जुगाड़ मशहूर है. उस जुगाड़ के लिए जादूगर भी मशहूर हैं. हॉर्स ट्रेडिंग की बात करते हो, आप तो बसपा के पूरे के पूरे हाथी गटक गए.’

मैं किसी भी कीमत पर राजस्थान सरकार गिरने नहीं दूंगा: गहलोत

सीएम गहलोत ने सदन में विपक्षी दलों को चेतावनी देते हुए कहा कि आप पूरी कोशिश कर रहे हैं राजस्थान सरकार गिराने की और मैं किसी भी कीमत पर राजस्थान सरकार गिरने नहीं दूंगा. उन्होंने बीजेपी की कांग्रेस मुक्त भारत मुहिम पर भी हमला बोलते हुए कहा कि आपका सपना है कि कांग्रेस मुक्त भारत किया जाए, लेकिन उसके पहले कांग्रेस का इतिहास पढ़ लो. हमने आजादी के लिए वर्षों जेल में काटे हैं और संघर्ष किया है, आपकी तो एक उंगली भी नहीं कटी.

मैं पार्टी का गदा और कवच: सचिन

बीजेपी की तरफ से उप-नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ के आरोपों पर कांग्रेस विधायक व पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट खड़े हुए और उन्हें टोका. सचिन पायलट बोले, ‘आपने मेरी सीट में बदलाव किया और सीट को मैंने यहां पाया. पहले मैं वहां बैठता था तो सुरक्षित था, सरकार का हिस्सा था…फिर मैंने 2 मिनट सोचा अध्यक्ष महोदय ने मेरी सीट यहां क्यों रखी है…2 मिनट मैंने सोचा और देखा यह सरहद है…सरहद पर सबसे मजबूत योद्धा भेजा जाता है….पायलट ने कहा आज मैं सरहद पर बैठा हूं जहां सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों हैं..लेकिन मैं पार्टी का कवच और ढाल, गदा और भाला बनकर खड़ा हूं.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

देखिये NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

Related Posts