किसान की बेटी हेलीकॉप्टर में बैठ विदा हुई ससुराल, पिता ने पूरा किया बचपन का सपना

बेटी अपने पिता से अक्सर पूछती थी, "आप प्लेन में आते जाते रहते हैं. मैं कब प्लेन में बैठूंगी और आसमान की सैर करूंगी."

राजस्थान में एक किसान पिता ने अपनी बेटी के बचपन के सपने को पूरा करते हुए उसे ससुराल हेलीकॉप्टर से विदा किया. कई सालों तक विदेश में काम करने के बाद किसान महेंद्र सिंह झुंझुनू जिले में स्थित अपने गांव लौटे थे.

महेंद्र की बेटी रीना अपने पिता से अक्सर पूछती थी, “आप प्लेन में आते जाते रहते हैं. मैं कब प्लेन में बैठूंगी और आसमान की सैर करूंगी.” हालांकि, महेंद्र सिंह अपनी बेटी की अधिकांश मांगों को पूरा कर चुके थे, लेकिन यह एक मांग बची हुई थी. ऐसे में उन्होंने बेटी की शादी के शुभ अवसर पर इस मांग को पूरा किया.

उन्होंने इसके लिए चॉपर को बुक किया और बेटी को ससुराल इस तरह से विदा करने के लिए प्रशासन से इजाजत लेकर सभी जरूरी कानूनी प्रक्रिया का पालन किया. रीना ने इस खुशी के मौके पर अपने सभी दोस्तों को बुलाया था.

दूसरी तरफ, उत्तर प्रदेश की योगी सरकार सामूहिक विवाह योजना की नई इबारत लिखने में जुटी है. सरकार का दावा है कि उसकी इस योजना ने न सिर्फ सामाजिक सद्भाव को बढ़ाया है, बल्कि अब तक तकरीबन साढ़े तीन लाख गरीब दंपतियों को दहेज रूपी दानव से बचाया भी है.

मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार मृत्युंजय कुमार ने बताया कि विवाह संस्कार में अनावश्यक प्रदर्शन एवं अपव्यय को रोकने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अक्टूबर, 2017 में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना शुरू की थी. विवाह के लिए 35,000 रुपये अनुदान की व्यवस्था हुई.

उन्होंने कहा कि अब यह अनुदान बढ़ाकर 51,000 रुपये कर दिया गया है. गरीब परिवारों को भी सरकार द्वारा व्यक्तिगत तौर पर अनुदान दिया जा रहा है.

ये भी पढ़ें-

चीन में रह रहे बिहार के लोगों ने की बाढ़ पीड़ितों की मदद, ‘बिहारी इन चाइना’ से जुड़े सैकड़ों लोग

बिहार में बदमाशों के बीच सोना लूटने की होड़, हाजीपुर ने बेगूसराय को छोड़ा पीछे

JNU के छात्रों पर न किया जाए बल प्रयोग: दिल्ली पुलिस प्रमुख