जोधपुर अस्पताल की बड़ी लापरवाही, चार बच्चों को चढ़ाया एक्सपायरी डेट का ग्लूकोज

चिकित्सको की मानें तो एक्सपायरी डेट के ग्लूकोज चढ़ाने से बच्चो में संक्रमण फैलने या यूं कहें कि इसमें बच्चों की जान जाने का खतरा रहता है.
glucose of expiry date to children, जोधपुर अस्पताल की बड़ी लापरवाही, चार बच्चों को चढ़ाया एक्सपायरी डेट का ग्लूकोज

कोरोनावायरस महामारी के संकट के बीच राजस्थान के जोधपुर स्थित डॉ एसएन मेडिकल कॉलेज से जुड़े सबसे बड़े महिला एवं शिशु रोग जांच अस्पताल में चिकित्सकों की बड़ी लापरवाही सामने आई है. जोधपुर के महिला एवं शिशु अस्पताल उम्मेद में चार बच्चों को कथित तौर पर एक्सपाइरी डेट का ग्लूकोज चढ़ा दिया गया.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

हालांकि गनीमत यह रही कि इस ग्लूकोज के चढ़ाने के बाद भी बच्चों की हालत ठीक है, उन्हें किसी तरह का नुकसान नहीं हुआ है. मामले की गंभीरता को देखते हुए अस्पताल प्रशासन ने भी जांच कमेटी गठित करने के आदेश दे दिए हैं. अस्पताल प्रशासन ने बताया, “मामले में जांच पड़ताल के लिए एक कमेटी गठित की गई है. अगर इस मामले में किसी की भी लापरवाही या गलती सामने आती है तो ऐसे जिम्मेदार कर्मी के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई अमल में लाई जाएगी.

उम्मेद में पहले भी हुआ था हादसा

जोधपुर के महिला एवं शिशु अस्पताल में कुछ साल पहले भी फंगस लगे ग्लूकोज चढ़ाने के बाद फैले संक्रमण से कई महिलाओं की मौत हो गई थी. यह मामला काफी चर्चा में रहा था. हालांकि इस मामले को लेकर सरकार ने भी हस्तक्षेप किया. जिसके बाद जिमेदार चिकित्सको के खिलाफ कार्रवाई की गई. हालांकि इस मामले के बाद से ही यह अस्पताल काफी चर्चा में रहा था.

लापरवाही से जा सकती थी जान

चिकित्सको की मानें तो एक्सपायरी डेट के ग्लूकोज चढ़ाने से बच्चो में संक्रमण फैलने या यूं कहें कि इसमें बच्चों की जान जाने का खतरा रहता है. लेकिन गनीमत रही कि इसमें सभी चारों बच्चों में इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं दिखा. ऐसे में फिलहाल चारों बच्चे सामान्य बताए जा रहे हैं.

हर बार होती है जांच कमेटी

अस्पताल में चाहे महिलाओं को फंगस युक्त ग्लूकोज चढ़ाने का मामला हो या थैलीसीमिया पीड़ित बच्चों को संक्रमित रक्त चढ़ाने का मामला. जांच कमेटी इस मामले में गठित हुई, लेकिन मामला ठंडा होने के साथ ही जांच और कार्रवाई भी केवल औपचारिकता बनकर रह जाती है. ऐसे में सवाल उठता है कि इस मामले में गठित कमेटी वाकई दोषी आने वालों के खिलाफ कार्रवाई करेगी.

Related Posts