21 महीने में बेटे के हत्‍यारे नहीं पकड़े गए, 380KM पैदल चल विधानसभा पहुंचा 81 साल का पिता

रामस्वरूप ने अपने इकलौते पुत्र को खोने के बाद स्थानीय पुलिस से लेकर जयपुर में गृह मंत्री तक गुहार लगाई थी.

जयपुर: किसी पिता के लिए सबसे बड़ा दुख होता है अपने जवान बेटे की अर्थी को कंधा देना, लेकिन यह दुख उस समय पहाड़ बन जाता है जब बेटे की हत्या हो जाए और आरोपी खुलेआम घूमते रहें. राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले के नोहर तहसील के रहने वाले 81 वर्षीय बुजुर्ग पिता रामस्वरूप की यही दास्तान है.

21 महीने पहले रामस्वरूप के 41 वर्षीय पुत्र पवन व्यास की नोहर के जसाना गांव में अटल सेवा केंद्र में निर्मम तरीके से हत्या कर दी गई थी, लेकिन हत्यारों का आज तक सुराग नहीं लग पाया है. रामस्वरूप ने अपने इकलौते पुत्र को खोने के बाद स्थानीय पुलिस से लेकर जयपुर में गृह मंत्री तक गुहार लगाई थी. नोहर में भी 141 दिन तक लगातार पुलिस थाने के बाहर धरना दिया गया.

सरकार ने दबाव में आकर जांच बदल दी. जांच एसओजी को दे दी, लेकिन परिणाम वही ढाक के तीन पात हैं. आज तक हत्यारे का कोई क्लू पुलिस के पास नहीं है. मजबूरन पीड़ित पिता स्थानीय नागरिकों का 15 सदस्य दल नोहर से जयपुर के लिए पैदल चलकर विधानसभा पहुंचकर धरना दिया.

वहीं उनके साथ विप्र फाउंडेशन सहित कई संगठनों के पदाधिकारी मौजूद रहे. नेता प्रतिपक्ष के उपनेता राजेन्द्र राठौड़, कांग्रेस विधायक डॉ राजकुमार शर्मा, अमित चाचाण, राकेश पारीक, भाजपा विधायक धर्मनारायण जोशी के अलावा कई राजनीतिक दलों के विधायकों ने भी प्रदर्शनकारियों के पास जाकर अपना समर्थन दिया.

Pawan Vyas Murder Case, 21 महीने में बेटे के हत्‍यारे नहीं पकड़े गए, 380KM पैदल चल विधानसभा पहुंचा 81 साल का पिता

हत्याकांड पर क्या कहती है सरकार

राज्य सरकार ने इस मसले पर यह बताया कि अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक करण शर्मा के साथ 24 सदस्य टीम को इस मामले की जांच के लिए लगााया गया है. इस टीम ने अब तक कई लोगों को सूचीबद्व करके गहन पूछताछ की है. हत्याकांड से जुड़े सबूतों को खंगाला जा रहा है.

वहीं सरकार ने बताया कि हत्याकाड़ में आरोपियों की खोज में पुलिस की मदद करने को वाले के लिए 50 हजार रूपए का इनाम भी रखा गया है. इसके अलावा प्रभारी मंत्री शांति धारीवाल ने पीड़ित पक्ष की बात विधानसभा में सुनी ओर कहा जल्द से जल्द आरोपियों की गिरफ्तारी होगी.

 

ये भी पढ़ें-   RTI संशोधन बिल को लोकसभा से हरी झंडी, जानें क्या है बिल और क्यों है टकरार

तेलंगाना सीएम KCR का ऐलान, अपने गांव के ह‍र परिवार को देंगे 10 लाख रुपये, नया घर