मृतक पहलू खान नहीं उनके दो बेटों समेत तीन के खिलाफ दर्ज है चार्जशीट, राजस्थान पुलिस की सफाई

कांग्रेस के सत्‍ता में आने के कुछ दिन बाद ही, पिछले साल 30 दिसंबर को यह चार्जशीट तैयार की गई थी.

जयपुर. अलवर जिले के बहरोड़ में पहलू खान हत्याकांड और गौ-तस्करी के मामले में शनिवार को अलवर पुलिस अधीक्षक परिश देशमुख अनिल का चार्जशीट पर बयान आया. उन्होंने कहा कि पहलू खान मामले में कुल मिलाकर 7 मामले दर्ज हुए थे, जिसमे 6 मामले राजस्थान वाइट एनिमल एक्ट के तहत दर्ज हुए थे और एक पहलू खान की मारपीट कर हत्या का मामला था. इसके साथ ही पहलू खान के परिवार के वकील कासिम खान ने बयान में कहा है कि गौ तस्करी के आरोप पूरी तरीके से निराधार हैं और 2 एफआईआर इन्होंने झूठी दर्ज की थी.

राजस्‍थान की कांग्रेस सरकार ने अलवर लिंचिंग में मारे गए पहलू खान के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की है. खान को गौ-तस्‍करी से जुड़े एक मामले में आरोपी बनाया गया था. पिछले साल कांग्रेस सरकार बनने के कुछ समय बाद ही यह चार्जशीट तैयार हुई. चार्जशीट में पहलू खान को आरोपी बनाए जाने पर उनके बेटे हैरान हैं. बेटे ने कहा- भारतीय जनता पार्टी की तरह कांग्रेस भी निकली. उसने कहा कि कांग्रेस ने उनके साथ धोखा किया है. यदि प्रदेश सरकार जस्टिस नहीं कर सकती तो उसे भी मार दिया जाए.

पुलिस का बयान 

पुलिस अधीक्षक परिश देशमुख अनिल ने बताया, पहलू खान की हत्या में मामले में 9 आरोपियों के खिलाफ कोर्ट में चालान पेश किया जा चुका है. जिसमें ट्रायल चल रहा है और पुलिस ने 46 में से 42 गवाहों के बयान करा दिए हैं. जबकि इसके अलावा 6 प्रकरण गौ तस्करी के राजस्थान गोवंश अधिनियम के दर्ज हुए थे, जिसमें से 4 प्रकरणों में 2017 में चार्जशीट फाइल कर दी थी. जबकि एक प्रकरण में जनवरी 2018 में चार्जशीट फाइल की गई थी. इसके बाद एक प्रकरण में पहलू खान के दोनों बेटे और चालक और पहलू खान का नाम था उस प्रकरण में आरोपी हाईकोर्ट में चले गए थे और पुलिस के द्वारा दिसंबर 2018 में अनुसंधान पूरा किया गया था.

इस मामले की चार्जशीट 24मई 2019 को कोर्ट में फाइल की गई है. पहलू खान की मौत होने के कारण उसका नाम चार्जशीट से हटा दिया गया और उसके दोनों बेटों आरिफ, इरशाद और वाहन चालक खान मोहम्मद  के खिलाफ कोर्ट में चालान पेश किया है. उन्होंने कहा पहलू खान की मौत की वजह से उसका नाम चार्जशीट में नही है. पुलिस में  इफ ओर बट का कोई महत्व नही है कानूनी तरीके से चार्जशीट फाइल की गई है.

पीड़ित पक्ष के वकील का बयान 

इधर पहलू खान के परिवार पीड़ित पक्ष की वकील कासिम खान ने बताया कि गौ तस्करी के आरोप पूरी तरीके से निराधार हैं और 2 एफआईआर इन्होंने झूठी दर्ज की थी. उनके पास बाकायदा नगर निगम के पट्टे मिले हैं जिनसे उन्होंने गौवंश को खरीदा था उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस ने किसी भी तरीके का सहयोग नहीं किया और पत्रावली में पट्टों को शामिल नहीं किया इसके लिए बाकायदा एप्लीकेशन लगाई गई थी उन्होंने कहा कि अब ट्रायल शुरू हो रहा है और हम अपना डिफेंस रखेंगे और कोर्ट में उन पट्टो को शामिल करेंगे.

क्या हुआ था पहलू के साथ

मालूम हो कि पहलू खान की अलवर में बेहरोर के पास 1 अप्रैल 2017 के गो रक्षकों ने तस्करी का आरोप लगाया था. भीड़ ने पहलू खान की पीट-पीटकर हत्या की दी थी. खान ने यह दावा किया था कि वह मवेश बाजार से गाय खरीदकर लाए अपने गांव ले जा रहे थे. पहलू खान ने 3 अप्रैल को अस्पताल में दम तोड़ दिया था.

ये भी पढ़ें: सत्ता में आने के बाद बीजेपी की कॉपी बन गई है कांग्रेस- पहलू केस में भड़के ओवैसी

ये भी पढ़ें: पहलू खान के खिलाफ चार्जशीट, सियासत तेज़ होने के बाद गहलोत बोले- गड़बड़ी मिली तो होगी फिर से जांच