राजस्थान का सियासी घमासान खत्म… जयपुर लौटे सचिन पायलट, कहा- पार्टी जो निर्देश देगी वो करूंगा

30 दिनों के सियासी घमासान के बाद जब सचिन पायलट जयपुर लौटे तो कार्यकर्ताओं की भीड़ ने उनका स्वागत किया और जोरदार नारेबाजी की.

एक महीने तक चलने वाला राजस्थान का सियासी घमासान अब सुलझते हुए दिख रहा है. इस घमासान के नायक रहे कांग्रेस पार्टी के बागी नेता सचिन पायलट के सुर अब नरम पड़ने लगे हैं. पायलट मंगलवार को जयपुर पहुंचे और वहां अपने कार्यकर्ताओं से मिलने के बाद उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा कि राजनीति में किसी भी नेता से व्यक्तिगत टकराव नहीं होता है.

राजनीति में संवाद का एक लेवल बनाए रखना चाहिए

सियासी उठापटक के दौरान एक दूसरे को लेकर दिए गए बयानों पर सचिन पायलट ने कहा, “जो कहा गया मुझे दुख है उस बात का, जिस प्रकार के शब्दों का इस्तमाल किया गया. मैंने उस समय भी प्रतिक्रया नहीं दी थी, आज भी नहीं दूंगा. जिसने जो कहा भूल जाना चाहिए. दुख जरूर होता है, लेकिन राजनीति में संवाद का एक लेवल बनाए रखना चाहिए.”

पायलट ने कहा कि हमने कभी भी पार्टी और पार्टी नेतृत्व के खिलाफ कुछ नहीं कहा. कई लोगों ने इस दौरान अफवाह फैलाईं और कई सवाल खड़े किए, लेकिन हम अपने उसी स्टैंड पर काबिज रहे जो हमने 30 दिन पहले लिया था. एक बार फिर उप मुख्यमंत्री बनाए जाने के सवाल पर पायलट ने कहा, “मैंने पार्टी से कोई मांग नहीं की है. मैं एक विधायक और कांग्रेस पार्टी का कार्यकर्ता हूं, पार्टी जो निर्देश मुझे देगी मैं वो करूंगा.”

राहुल-प्रियंका से की मुलाकात, जयपुर लौटने पर हुआ स्वागत

दरअसल सचिन पायलट दिल्ली में पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी और पूर्व प्रमुख राहुल गांधी से मुलाकात और विधायकों द्वारा उठाए गए मुद्दों के निपटारे के लिए तीन सदस्यों की समिति के गठन के ऐलान के बाद जयपुर लौटे हैं. जयपुर लौटने पर पायलट समर्थक कार्यकर्ताओं की भीड़ ने उनका स्वागत किया और जोरदार नारेबाजी की.

Related Posts